Sports

जालन्धर : ऑकलैंड में जब भारत और न्यूजीलैंड के बीच दूसरा टी-20 मैच खेला जा रहा था तभी स्टेडियम के एक कोने पर एक युवती मीटू का पोस्टर लिए खड़ी थी। पोस्टर पर लिखा था- वेक अप न्यूजीलैंड क्रिकेट। मीटी। मैच दौरान अचानक मीटू का पोस्टर दिखने पर क्रिकेट फैंस भी हैरान हो गए थे कि आखिर किस क्रिकेटर पर आरोप लग रहे हैं। अब जाकर साफ हुआ है कि उक्त आरोप न्यूजीलैंड के क्रिकेटर स्कॉट कुग्गलेन पर लगे थे। कुग्गलेन पर दो साल पहले रेप के आरोप लगे थे। हालांकि पुलिस ने उन्हें सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था। लेकिन कहीं न कहीं अभी भी कुग्गलेन का विरोध जारी है। 

सुरक्षा अधिकारियों ने युवती को स्टेडियम से निकाला
Scott Kuggeleijn is news victim of Metoo movement
उक्त युवती द्वारा जब मी टू का पोस्टर दिखाने पर सनसनी फैलने लगी तभी स्टेडियम के सुरक्षा अधिकारियों ने उक्त युवती को वहां से हटा दिया। बाद में न्यूजीलैंड क्रिकेट अधिकारियों ने ऑफिशियल बयान जारी कर घटना पर माफी मांगी। उन्होंने लिखा- यह सब कुछ और नहीं बल्कि ओवर रिएक्शन का नतीजा है। वहीं, सोशल साइट्स पर कुग्गलेन के विरोध में नो मींस नो और स्टॉप पिकिंग कुग्गलेन के पोस्टर भी वायरल होते दिखे।

अपार्टमेंट में ले गया था युवती को, मना करने के बावजूद की जबरदस्ती
Scott Kuggeleijn is news victim of Metoo movement
कुग्गलेन की कहानी भी फुटबॉल स्टार क्रिस्टियानो रोनाल्डो जैसी है। जैसे कि दोनों पहले जनतक स्थल पर मिले और फिर दोनों खिलाड़ी उक्त युवतियों को अपने अपार्टमैंट में ले ले आए। यहां युवती ने आरोप लगाया कि उन्होंने कई बार मना किया था लेकिन उनकी मर्जी के बगैर उनसे जबरदस्ती हुर्ई। उक्त युवती का आरोप है मई 2015 में कुग्गलेन उन्हें अपार्टमैंट में ले गए थे। वह नजदीकियां बढ़ाने की ताव में थे। जब उन्हें कुग्गलेन की मंशा नजर आने लगी तो वह अपार्टमेंट से जाने लगी। तभी इस खिलाड़ी ने जबरदस्ती की।

फर्स्ट क्लास क्रिकेट के बड़े खिलाड़ी है कुग्गलेन
कुग्गलेन के नाम फर्स्ट क्लास क्रिकेट में जोरदार आंकड़े दर्ज हैं। वह 66 मैचों में 28 की औसत से 2408 रन बना चुके हैं। उनके नाम तीन शतक तो 12 अर्धशतक भी दर्ज है। वहीं, बॉलिंग करते हुए वह 221 विकेट निकाल चुके हैं। इसी रह ट्वंटी-20 क्रिकेट में वह 73 मैच खेलकर 446 रन बना चुके हैं जबकि उनके नाम पर 66 विकेट भी दर्ज हैं।

.
.
.
.
.