Sports

नई दिल्लीः राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदकधारी भारोत्तोलक संजीता चानू और टेनिस खिलाड़ी युकी भांबरी को टारगेट ओलंपिक पोडियम योजना से बाहर कर दिया गया। चानू का ‘ए’ डोप नमूना प्रतिबंधित पदार्थ का पाजीटिव पाया गया था। अप्रैल में गोल्डकोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में महिला 53 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतने वाली संजीता का पिछले साल नवंबर में अमेरिका में विश्व चैम्पियनशिप के दौरान कराए गए परीक्षण में एनाबोलिक स्टेराइड का दोषी पाया गया है और उन पर अभी अस्थायी निलंबन लगा हुआ है।   

भारतीय खेल प्राधिकरण ने बयान में कहा, ‘‘टाप्स से संजीता को बाहर करने का फैसला किया गया क्योंकि अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ ने डोपिंग के आरोप में उन्हें निलंबित किया है।’’ युकी ने आगामी एशियाई खेलों में हिस्सा नहीं लेने का फैसला किया है जिससे उन्हें इस योजना से बाहर कर दिया गया। एशियाई खेलों की तारीख अमेरिकी ओपन के साथ पड़ रही हैं। साई ने कहा, ‘‘समिति ने पुरूष एकल खिलाड़ी युकी भांबरी को टाप्स से हटाने का फैसला किया है क्योंकि वह एशियाई खेलों में नहीं खेल रहे हैं। ’’ 

पुरूष युगल विशेषज्ञ दिविज शरण को एशियाई खेलों तक इस योजना में शामिल किया गया है। एक अन्य फैसले में रोहन बोपन्ना को सात मई से शुरू होकर 12 हफ्ते तक कोच और फिजियो के इस्तेमाल के लिए 26.03 लाख रूपए मंजूर किए गए हैं। ट्रैप निशानेबाज श्रेयसी सिंह, सीमा तोमर, मानवजीत सिंह संधू, अंकुर मित्तल और शार्दुल विहान को ट्रेङ्क्षनग और एशियाई खेलों से पहले इटली में टूर्नामेंट में भाग लेने के लिये 65.42 लाख रूपये मंजूर किए गए हैं। राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदकधारी अनीश भानवाला को कारतूस लेने के लिये 1.43 लाख रूपये की मंजूरी की गई।

.
.
.
.
.