Sports

मुंबई  : राजस्थान रॉयल्स के कप्तान संजू सैमसन ने शुक्रवार को यहां इंडियन प्रीमियर लीग मैच में दिल्ली कैपिटल्स पर मिली जीत के बाद ‘नो-बॉल’ संबंधित बहस पर कहा कि यह फुल टॉस गेंद थी जिसे अंपायर ने इसे सामान्य गेंद दिया और वह अपने फैसले पर अडिग रहे। जोस बटलर (119 रन) के शतक और साथी सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडीक्कल (54 रन) के साथ पहले विकेट के लिए 155 रन की साझेदारी की बदौलत राजस्थान रॉयल्स ने 2 विकेट पर 222 रन बनाए।

दिल्ली कैपिटल्स 20 ओवर में 8 विकेट पर 207 रन ही बना सकी। दिल्ली कैपिटल्स को अंतिम ओवर में 36 रन चाहिए थे। रावमैन पॉवेल (28 रन, 15 गेंद, पांच छक्के) ने ओबेद मैकॉय की पहली तीन गेंदों पर छक्के जड़ दिये। लेकिन तीसरी गेंद को ‘नो-बॉल’ करार नहीं करने पर दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत अपने खिलाडिय़ों को मैदान से बाहर बुलाने लगे। कोच प्रवीण आमरे इशारे से ‘नो-बॉल’ चेक करने को कह रहे थे, इससे कुछ देर तक मैच रूक गया। इस पर प्रतिक्रिया करते हुए सैमसन ने कहा कि यह छक्का था, यह फुल टॉस गेंद थी। अंपायर ने इसे सामान्य गेंद करार किया था। लेकिन बल्लेबाज इसे ‘नो-बॉल’ करने की मांग कर रहे थे। लेकिन अंपायर ने अपना फैसला स्पष्ट कर दिया था और वह इस पर अडिग रहे।

इसी दौराान बटलर ने अपने सीजन में लगाए तीसरे शतक पर बात की। उन्होंने कहा- यह सचमुच विशेष था। मैंने इसका लुत्फ उठाया। मुझे यह वानखेड़े स्टेडियम पसंद है जहां मैंने मुंबई इंडियंस के साथ पहला आईपीएल खेला था। मैं अपनी जिंदगी की सर्वश्रेष्ठ फॉर्म का लुत्फ उठा रहा हूं और इसे जारी रखना चाहूंगा। 

यह भी पढ़ें:- DC vs RR : युजी चहल ने क्रीज से लौट रहे Kuldeep Yadav को मारा ‘थप्पड़’, वीडियो आई सामने

Sports

 

यह भी पढ़ें:- ऋषभ पंत ने बताया क्यों हो गए थे आग-बबूला, इसे ठहराया गलती का जिम्मेदार

Sports

.
.
.
.
.