Sports

जालन्धर : ऑटोबायोग्राफी ‘नो स्पिन’ में क्रिकेट के धुरंधरों को अपने शाब्दिक बयानों से लपेटे में लेने वाले ऑस्ट्रेलिया के महान स्पिन गेंदबाज शेन वार्न ने अब अपने ही कप्तान रिकी पोंटिंग को भी घेर लिया है। वार्न का कहना है कि वह जितने भी कप्तानों के साथ खेले उनमें से पोंटिंग सबसे खराब कप्तान थे। वार्न का कहना था कि वह कई अच्छे कप्तानों के साथ खेले लेकिन इन कप्तानों में पोंटिंग कभी भी ऊपरी कतार में नहीं आने चाहिए।

PunjabKesari

वार्न ने कहा कि 2005 की एशेज सीरिज के दौरान एजबैस्टन में बेहद महत्वपूर्ण टैस्ट होना था। पिच बेहद स्पॉट थी। इसके बावजूद रिंकी ने टॉस जीतनकर गेंदबाजी चुन ली। मुझे यह सबसे खराब फैसला लगा। मैं हैरान था। वहीं इंगलैंड ने इस मौके को भुनाते हुए रनों का पहाड़ खड़ा कर दिया। वार्न का कहना है कि पोंटिंग खुद फैसला लेने की बजाय तब जॉन बुकानन के आंकड़ें को ज्यादा त्वजो दे रहे थे। इन आंकड़े के मुताबिक एजबैस्टन में पहले गेंदबाजी करनी वाली टीम जीतती थी। पोंटिंग ने पिच के मुताबिक नहीं बल्कि इतिहास को ध्यान में रखते हुए फैसला लिया था, जोकि गलत था।

PunjabKesari

वार्न ने कहा कि उक्त सीरिज में ग्लेन मैकग्रा चोटिल थे। बावजूद इसके पोंटिंग का यकीन था कि वह इंगलैंड की बल्लेबाजों को आसानी से रोक लेंगे। लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। इंगलैंड ने उस सीरीज में ऐसी पकड़ी बनाई कि बाद में पीछे मुड़कर नहीं देखा। इसीके साथ स्टीव वॉ ने भी 2001 में हुए कोलकाता टैस्ट में भारत को फॉलोअन खिलाकर गलती की थी। बता दें कि वार्न इससे पहले भी स्टीव वॉ को उनके फैसले के लिए स्वार्थी का टैग दे चुके हैं।

.
.
.
.
.