Sports

नई दिल्लीः किंग्स इलेवन पंजाब ने टूर्नामेंट के 12वें मैच में चेन्नई सुपर किंग्स को 4 रनों से हराया। पंजाब के लिए यह बड़ी जीत है क्योंकि वह चेन्नई को टूर्नामेंट की पहली हार देने वाली टीम बनी। लेकिन पंजाब की जीत के पीछे कप्तान रविचंद्रन अश्विन का भी बड़ा हाथ रहा। उन्होंने मैच के दाैरान एक ऐसा फैसला लिया था जिसने चेन्नई से मैच छीन लिया था। 

अंपायर के फैसले को दी चुनाैती
पंजाब से मिले 198 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई की टीम एक समय 6 ओवर में 2 विकेट के नुक्सान पर 50 से ज्यादा रन बना चुकी थी। उस समय क्रीज पर सैम बिलिंग्स आैर अंबाती राडुयू माैजूद थे। मैच का 7वां ओवर खुद कप्तान अश्विन फेंकने आए। सामने बिलिंग्स थे। अश्विन ने ओवर की चाैथी गेंद पर बिलिंग्स को बीट किया आैर गेंद पैड पर जा लगी। पैड पर लगने के बाद गेंद बाउंड्री पर भी जा पहुंची आैर अंपायर ने लेग वाई का चाैका दे दिया। पर गेंद जैसे ही पैड पर लगी तो अश्विन ने एल्बीडब्ल्यू की अपील की आैर रिव्यू मांगा। रिव्यू में बिलिंग्स साफ आउट होते दिख रहे थे। इसके बाद अंपायर ने गलती मानते हुए बिलिंग्स को आउट दिया आैर पंजाब ने चेन्नई तीसरा शिकार कर लिया। बिलिंग्स 8 गेंदों में 9 रन बनाकर पवेलियन लाैट गए।
PunjabKesari

बिलिंग्स चेन्नई को जीता चुके हैं मैच
बता दें कि बिलिंग्स की विकेट पंजाब के लिए बहुत कीमती थी क्योंकि उन्होंने चेन्नई को दूसरा मैच जितवाने में अहम भूमिका निभाई थी जो 10 अप्रैल को कोलकाता के खिलाफ हुआ था। बिलिंग्स ने इस मैच में 5 छक्कों आैर 2 चाैकों की मदद से 23 गेंदों में 56 रनों की पारी खेलकर कोलकाता से मिले 205 रनों के लक्ष्य को छोटा साबित कर दिया था।