Sports

नई दिल्ली : इंगलैंड दौरा भारतीय क्रिकेट के लिए सबसे बुरा रहा। पहले वनडे तो बाद में टैस्ट सीरीज में उसे हार का सामना करना पड़ा। इस दौरान भारतीय सलामी बल्लेबाजों की विफलता व कमजोर मध्यक्रम चिंता का विषय बना रहा है। वैसे भी इंगलैंड से टैस्ट सीरीज में पिछडऩे के बाद ही कयास लगाए जाने शुरू हो गए थे कि टीम कोच को इस हार का स्पष्टीकरण देना मुश्किल हो जाएगा। इसीके मुताबिक अब कोच शास्त्री सीओए के सामने अपनी रिपोर्ट लेकर पहुंचे हैं। शास्त्री ने एक लाइन में कहा है कि इंगलैंड दौरे पर उनकी हार का कारण टॉस थी।

PunjabKesari

एशिया कप शुरू होने से पहले ही शास्त्री सीओए के सामने पेश होकर इंगलैंड दौरे पर मिली हार के लिए जिम्मेदार कारण गिना चुके थे। शास्त्री ने कहा था कि इंगलैंड दौरे में टॉस का महत्वपूर्ण रोल था। पांचों टैस्ट मैचों में हम टॉस जीत नहीं पाए। ऐसे में कई पिचों पर पहले बल्लेबाजी या गेंदबाजी करने का फायदा हम नहीं उठा पाए। ऊपर से यह सीरीज काफी कड़े मुकाबले वाली थी। दो मैच ऐसे भी थे जोकि हम जीत सकते थे। हमारे बॉलर्स का प्रदर्शन अच्छा था। हां, कुछेक मौकों पर लंबी पार्टनरशिप न बनना हार की वजह बना।

PunjabKesari

शास्त्री ने बैठक के दौरान आगामी ऑस्ट्रेलिया दौरे की तैयारियों संबंधी अपनी मांगें भी रख दीं। शास्त्री ने कहा कि आगे कठिन ऑस्ट्रेलिया दौरा आने वाला है। ऐसे में भारतीय टीम को ज्यादा से ज्यादा अभ्यास मैच खेलने की जरूरत पड़ेगी। वैसे भी टीम इंडिया के पास स्पिन विशेषज्ञ कोच होना जरूरी है। अगर स्पिन कोच हो तो भारतीय स्पिनर अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। बता दें कि भारतीय टीम के पास पहले ही मुख्य कोच रवि शास्त्री के पास तीन अन्य कोच भी है। संजय बांगड़ टीम की बल्लेबाजी दिखते हैं जबकि भरत अरुण गेंदबाजी। आर श्रीधर फील्डिंग कोच की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। अगर भारत को स्पिन कोच भी मिल गया तो यह टीम के साथ पांचवां कोच होगा।

.
.
.
.
.