Sports

मेलबोर्नः पर्थ के दूसरे टेस्ट की हार और उसके बाद ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा की दबी चोट को लेकर उठे विवाद के बाद विश्व की नंबर एक टीम भारत के कोच रवि शास्त्री की प्रतिष्ठा भी दांव पर लग गई है। शास्त्री ने रविवार को मेलबोर्न में संवाददाता सम्मेलन में जडेजा की चोट को लेकर खुलासा किया था कि उन्हें आस्ट्रेलिया पहुंचने के बाद बाएं कंधे की चोट के लिए इंजेक्शन दिए गए थे। शास्त्री ने इसके साथ ही पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर का नाम लिए बिना उनपर निशाना साधा था कि हजारों मील दूर बैठकर आलोचना करना आसान है।

इससे पहले शास्त्री अपने उस बयान को लेकर भी विवादों में रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था कि यह भारतीय टीम पिछले 15 वर्षाें में विदेशी दौरा करने वाली सर्वश्रेष्ठ टीम है। बीसीसीआई का संचालन देख रही प्रशासकों की समिति ने भी शास्त्री के इस बयान पर आपत्ति उठायी थी। भारतीय कोच की यह बात एडिलेड टेस्ट में भारत की शानदार जीत तक ठीक लग रही थी लेकिन पर्थ में हार के साथ ही टीम इंडिया में छिपी हुई वे तमाम बातें बाहर आने लगीं जो आमतौर पर ड्रैसिंग रूम का हिस्सा रहती हैं। भारत के आस्ट्रेलिया पहुंचने के एक महीने बाद जाकर टीम इंडिया के कोच मीडिया को यह बताते हैं कि टीम के एक प्रमुख स्पिनर चोट के साथ आस्ट्रेलिया पहुंचे और इसके बावजूद उन्हें पर्थ टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय टीम में शामिल कर लिया गया।
ravi shastri image

नहीं जीते तो आलोचनाओं के नए तीर निकलेंगे

शास्त्री के बयान से उठे विवाद पर लीपापोती करने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(बीसीसीआई) को आनन फानन में रविवार रात ही एक बयान जारी कर जडेजा की पूरी चोट के लिए सफाई देनी पड़ी और बीसीसीआई ने साथ ही यह भी बता दिया कि जडेजा मेलबोर्न टेस्ट में खेलने को लेकर उपलब्ध हैं। टीम इंडिया के कोच ने संवाददाता सम्मेलन में जिस तरह गावस्कर को आड़े हाथों लिया वह निश्चित रूप से आगे आने वाले तूफान का संकेत है। मेलबोर्न में भारतीय टीम को हर लिहाजा से बेहतरीन प्रदर्शन करना होगा और जीत हासिल करनी होगी अन्यथा टीम के साथ साथ कोच को भी आलोचनाओं के नए तीरों के लिए तैयार रहना होगा। शास्त्री की कांफ्रेंस का सबसे बड़ा मुद्दा जडेजा की चोट बन गई जिसे अब तक दबा कर रखा गया था। यह हैरानी की बात है कि पिछले लगभग एक महीने में टीम से बाहर किसी को भी यह जानकारी नहीं थी और न ही टीम प्रबंधन ने बताया था कि जडेजा के बायें कंधे में चोट है और उसके इलाज के लिये उन्हें आस्ट्रेलिया पहुंचने के लिये उन्हें इंजेक्शन दिये गये हैं। दरअसल यह सारा मामला पर्थ टेस्ट की हार के बाद सामने आया जिसमें भारतीय टीम प्रबंधन ने विशेषज्ञ स्पिनर को बाहर रख चार तेका गेंदबाकाों को खेलाया और मेजबान आस्ट्रेलियाई टीम अपने विशेषज्ञ स्पिनर नाथन लियोन की बदौलत मैच जीतकर सीरीका में बराबरी हासिल करने में कामयाब रही।
shastri and kohli image

इस वजह से गावस्कर ने की थी आलोचना

ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन पेट की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण दूसरे टेस्ट से बाहर हो गये थे जबकि जडेजा को बाहर रखने के पीछे कोई कारण नहीं बताया गया था। कप्तान विराट कोहली ने दूसरे टेस्ट की पूर्व संध्या पर कहा था कि उन्हें कोई कारण नहीं दिखाई देता कि इस मैच में विशेषज्ञ स्पिनर को खेलाया जाए। विराट ने यहां तक कहा कि यदि अश्विन फिट भी होते तो भी वह चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरते। टीम चयन के इसी फैसले की गावस्कर ने कड़ी आलोचना की थी जिसपर शास्त्री ने उलटा सवाल उठाते हुये कहा था कि आलोचकों को तथ्यों के बारे में कोई जानकारी नहीं है और वे हजारों मील दूर बैठकर अपने हिसाब से टिप्पणी करते रहते हैं। यह भी दिलचस्प है कि जहां शास्त्री जडेजा को पूरी तरह फिट नहीं बैठा रहे हैं वहीं इस ऑलराउंडर ने पर्थ के दूसरे टेस्ट में आस्ट्रेलिया की पारी में क्षेत्ररक्षण किया था। पर्थ टेस्ट की पूर्व संध्या पर खिलाड़यिों की फिटनेस को लेकर बीसीसीआई के बुलेटिन में जडेजा की चोट का कोई जिक्र नहीं था। टीम प्रबंधन ने भी यह बात किसी को पता नहीं लगने दी कि जडेजा पूरी तरह फिट नहीं है।
sunil gavaskar image

जडेजा को 30 नवंबर को अभ्यास मैच के दौरान इजेंक्शन दिया गया था और उसके 23 दिन बाद जाकर यह बात सामने आती है कि उनके बाएं कंधे में जकड़न थी जिसके इलाज के लिये उन्हें इंजेक्शन दिया गया। यह भी हैरानी की बात है कि विराट ने पर्थ टेस्ट के लिये जडेजा को 13 सदस्यीय टीम में शामिल किया लेकिन बाद में कहा कि अंतिम एकादश का चयन परिस्थितियों के आधार पर था फिटनेस के आधार पर नहीं। मेलबोर्न टेस्ट से तीन दिन पहले कोच के जडेजा को चोटिल बताने और उन्हें इंजेक्शन दिए जाने के खुलासे से बड़ा विवाद खड़ा हुआ है। मेलबोर्न टेस्ट शास्त्री के लिये अब प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है और इस मैच में उनकी प्रतिष्ठा टीम के खिलाड़यिों से ज्यादा दांव पर रहेगी।
 

.
.
.
.
.