Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे और आखिरी टेस्ट मैच में चेतेश्वर पुजारा ने एक बार फिर अपने आपको भारतीय टेस्ट टीम का सबसे अहम खिलाड़ी साबित किया है। पुजारा ने सिडनी टेस्ट में 373 गेंदो पर 193 रनों की शानदार पारी खेली। लेकिन खबरों की मानें तो सिडनी टेस्ट के पहले दिन जब पुजारा इस सीरीज में अपनी तीसरे शतक के करीब बढ़ रहे थे तब उनकी पत्नी उनके पिता के साथ मुंबई की एक कैब में बैठकर बांद्रा के एक अस्पताल की ओर बढ़ रहे थे।
PunjabKesari
एक खिलाड़ी जब मैदान में उतरता है तो उसके लिए उसका देश सबसे पहले होता है, तमाम निजी परेशानियों को मैदान के बाहर छोड़कर खिलाड़ी सिर्फ अपने खेल पर फोकस करता है ताकि वो अपने देश का मान बढ़ा सके। ऐसी ही एक मिसाल बनाई है टीम इंडिया के मिस्टर भरोसेमंद चेतेश्वर पुजारा ने, जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के साथ सिडनी में खेली जा रही टेस्ट सीरीज के चौथे मुकाबले में 193 रनों की पारी खेलकर भारत को इतिहास रचने की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है।

पिता जूझ रहे थे बीमारी से तो पुजारा खेल रहे थे कमाल की पारी 
PunjabKesari
इस पूरी सीरीज में पुजारा के बल्ले से कमाल की पारी देखने को मिली है। अब तक तीन शतक जड़कर पुजारा ने इस सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाए हैं। इसी बीच खबर आई है कि जब वो सिडनी में धारदार बल्लेबाजी कर रहे थे तो दूसरी तरफ उनके पिता और इकलौते कोच अरविंद पुजारा मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती थे और उनका पत्नी पूजा डॉक्टर्स के साथ उनकी बीमारी की के बारे में चर्चा कर रही थीं। इंडियन एक्सप्रेस की खबरों की मानें तो सिडनी टेस्ट के पहले दिन जब पुजारा इस सीरीज में अपनी तीसरे शतक के करीब बढ़ रहे थे तब उनकी पत्नी उनके पिता के साथ मुंबई की एक कैब में बैठकर बांद्रा के एक अस्पताल की ओर बढ़ रही थीं।

आपको बता दें की पुजारा के पिता को दिल की बीमारी है, जिसके लिए उनको राजकोट से मुंबई के अस्पताल में भर्ती होना जरूरी था। खास बात है कि उनके पिता अरविंद पुजारा खुद भी रणजी के खिलाड़ी रहे हैं। खबर के मुताबिक गुरुवार के दिन जब अस्पताल में उनकी जांच चल रही थी। तो वह उनकी नतीजों की बजाय अपने बेटे के स्कोर अपडेट में ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे थे। पुजारा के पिता ने कहा कि मैं लोगों से सुन रहा था कि कैसे दुनिया भर में उसकी तारीफ हो रही है, अगर किसी के मन में उसकी बल्लेबाजी को लेकर कोई शक होगा तो वह अब दूर हो गया होगा। मैं अब अस्पताल से घर वापस जाकर उसकी बैटिंग की रिकॉर्डिंग्स देखुंगा।

.
.
.
.
.