Sports

भुवनेश्वर : एफआईएच प्रो लीग में अच्छी शुरूआत के बाद भारतीय महिला हॉकी टीम ऊंची रैंकिंग वाली लेकिन खराब फॉर्म से जूझ रही जर्मनी के खिलाफ शनिवार को होने वाले पहले मैच में जीत की राह पर लौटने की कोशिश में होगी। प्रो लीग में पहली बार खेल रही भारतीय महिला टीम ने मस्कट में पहले दो मैचों में चीन को 7.1 और 2.1 से हराया। 

विश्व रैंकिंग में नौवें स्थान पर काबिज भारत ने इसके बाद छठी रैंकिंग वाली स्पेन को 2.1 से हराया लेकिन पिछले महीने रिटर्न चरण में 3.4 से हार गई। इस हार के बावजूद भारतीय टीम एफआईएच प्रो लीग तालिका में तीन जीत और एक हार के बाद नौ अंक लेकर तीसरे स्थान पर है। चोटिल रानी रामपाल की जगह टीम की कप्तानी कर रही सविता पूनिया को कलिंगा स्टेडियम पर बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद होगी। 

स्पेन के खिलाफ पिछले मैच में आखिरी क्षणों में गोल गंवाना भारत पर भारी पड़ा। मौजूदा फॉर्म के आधार पर दुनिया की पांचवें नंबर की टीम जर्मनी के खिलाफ भारत का पलड़ा भारी लग रहा है। जर्मन टीम ने भी तक दो मैच खेले हैं लेकिन बेल्जियम ने उसे 1.0 और 3.1 से हराया। टीम अक्टूबर के बाद लीग में वापसी कर रही है। 

भारतीय टीम की मुख्य कोच यानेके शॉपमैन को भली भांति पता है कि जर्मन टीम ब्रेक के बाद लौटने के बावजूद क्या कर सकती है। उन्होंने कहा, ‘जर्मन टीम मूल कौशल के मामले में दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम है और लगातार अच्छा खेलती आई है। उनका डिफेंस मजबूत है और वे तेजी से आक्रमण करते हैं।' 

भारतीय टीम में अक्षता अबासो धेकाले और दीपिका जूनियर के रूप में दो नए चेहरे हैं। दूसरा मैच रविवार को खेला जाएगा। भारतीय महिला और पुरूष टीम के मैच साथ में होने थे लेकिन जर्मन पुरूष टीम में कोरोना संक्रमण के मामले पाए जाने के बाद पुरूष टीमों के मैच स्थगित कर दिए गए। 

.
.
.
.
.