Sports

बेंगलुरू : भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान सविता को एशियाई खेलों में अच्छे प्रदर्शन का भरोसा है क्योंकि हांगझोउ में होने वाले इन महाद्वीपीय खेलों के स्थगित होने से टीम को ट्रेनिंग और सुधार करने का अधिक समय मिलेगा जैसा टोक्यो ओलंपिक के एक साल के लिए स्थगित होने के दौरान हुआ था। ओलंपिक खेल 2020 को कोविड-19 महामारी के कारण एक साल के लिए स्थगित किया गया था और इनका आयोजन 2021 में हुआ था। 

भारतीय टीम को अब दोबारा इस तरह की स्थिति का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि एशियाई खेलों को भी अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है। सविता ने हॉकी इंडिया के पोडकास्ट ‘हॉकी ते चर्चा' पर कहा, ‘हम इन खेलों के स्थगित होने से एक बार फिर इस तरह निपटेंगे कि हम इसे एशियाई खेलों के लिए ट्रेनिंग और बेहतर तैयार होने के मौके के रूप में लेंगे।' 

उन्होंने कहा, ‘ओलंपिक के एक साल के लिए स्थगित होने से हमें सुधार करने का काफी समय मिला था और निजी तौर पर मैं यानेक शॉपमैन के साथ काम करूंगी जिन्होंने गोलकीपर के रूप में मेरे अंदर आए सुधार में अहम भूमिका निभाई है।' हाल के समय की सबसे सफल गोलकीपर में शामिल सविता जुलाई में होने वाले एफआईएच विश्व कप से पहले यूरोप में एफआईएच प्रो लीग मुकाबलों में भारतीय टीम की अगुआई करेंगी। 

सविता ने कहा, ‘टोक्यो ओलंपिक में चौथे स्थान पर रहने से सभी का हमारे प्रदर्शन पर ध्यान गया है। पहले सिर्फ पुरुष टीम से उम्मीदें होती थी लेकिन अब लोग महिला टीम से भी उम्मीद करते हैं कि अगर हम किसी टूर्नामेंट में हिस्सा लें तो शीर्ष तीन में जगह बनाएं और यह खेल के लिए अच्छा है।' उन्होंने कहा, ‘किसी ने उम्मीद नहीं की थी कि हम ओलंपिक खेलों में क्वार्टर फाइनल से आगे बढ़ पाएंगे। हमारे कई समर्थकों ने शुरुआत में सोचा था कि हम क्वार्टर फाइनल तक ही पहुंच पाएंगे लेकिन मुझे नहीं लगता कि किसी ने सोचा था कि हम क्वार्टर फाइनल जीत जाएंगे।' 

भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के बेंगलुरू केंद्र में टीम की प्रो लीग और विश्व कप के लिए तैयारी के संदर्भ में सविता ने कहा कि टीम को शीर्ष चार में जगह बनाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा, ‘महिला विश्व कप और यूरोप में प्रो लीग मुकाबलों से पहले काफी रोमांच है। पिछली बार हम क्वार्टर फाइनल से बाहर हो गए थे लेकिन इस बार हम शीर्ष चार में जगह बनाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे।' 

.
.
.
.
.