Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व वाली चेन्नई सुपर किंग्स की टीम इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण में फिटनेस टेस्ट नहीं देगी। पूर्व भारतीय ट्रेनर राजी श्रीनिवासन, जो इस सीजन के पहले मैच तक के लिए चेन्नई टीम से जुड़े हैं, ने खिलाड़ियों की फिटनेस को मापने के लिए 2 किमी या 2.4 किमी दौड़ और स्प्रिंट रिपीट टेस्ट को खिलाड़ियों की फिटनेस मापने के पैमाने के रूप में चुना है।

PunjabKesari
रामजी ने बताया कि वह ट्रेनिंग और डिजाइन टेस्ट के मद्देनजर खिलाड़ियों की फिटनेस का ध्यान रखते हैं। उन्होंने कहा कि अधिकांश खिलाड़ियों को यो-यो टेस्ट का पैरामीटर पता है, इसलिए वह कुछ अलग करने पर ध्यान देते हैं। रामजी ने कहा, 'मैं खिलाड़ियों का फिटनेस स्तर 2 किमी या 2.4 किमी दौड़ से पता करता हूं या फिर स्प्रिंट रिपीट टेस्ट करता हूं। सिर्फ इसलिए कि राष्ट्रीय टीम यो-यो टेस्ट करती है, इसका मतलब यह नहीं कि मुझे भी इसी प्रक्रिया का पालन करने की जरूरत है।'

PunjabKesari
रामजी ने आगे कहा, 'फिटनेस बहुत जरूरी है और इसमें विशेष ध्यान रखना होता है कि सिर्फ एंड्युरेंस को प्राथमिकता न दी जाए बल्कि पूरी फिटनेस स्तर का ख्याल रखा जाए। वैसे, सारणी बनाना बेहद जरूरी है, जिसमें कई मुद्दों पर ध्यान देना होता है जैसे शक्ति, बल, चुस्ती, धैर्य, लचीलापन आदि।'

.
.
.
.
.