Sports

स्पोटर्स डेस्क: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच कल पर्थ में दूसरा टेस्ट मैच खेला जाएगा। पहले टेस्ट में टीम इंडिया से हार झेलने के बाद दूसरे टेस्ट में वापसी करने के लिए बनाई गई तमाम रणनीतियों और फैसलों में से एक फैसला कंगारू टीम को उल्टा पड़ सकता है और ये कहना है इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन का। उन्होंने कहा कि भारत के फास्ट बॉलिंग अटैक (बुमराह, ईशांत, शमी) को देखते हुए पर्थ में हरियाली पिच तैयार करने का फैसला ऑस्ट्रेलिया टीम को उल्टा पड़ सकता है।  

पर्थ में कंगारू टीम उठा रही है बड़ा जोखिम- माइकल वॉन

Perth Test 2018 INDvsAUS

माइकल वॉन ने कहा कि दूसरे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया पिच के तौर पर बड़ा जोखिम उठा रही है। उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया को ऐसी पिच बनानी चाहिए थी, जिस पर उन्हें लगता है कि वो भारतीय बल्लेबाजों को जल्द आउट कर सकते हैं, लेकिन एडिलेड ओवल के मैच को देखते हुए नहीं लगता कि यह ऐसी पिच थी, इस पर हालात का कोई असर नहीं पड़ा। ’’ वॉन ने कहा कि मिशेल स्टार्क का प्रदर्शन दूसरी पारी में अच्छा नहीं रहा था, जिससे उन्होंने मैच में पांच विकेट लिये थे। उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्य से आस्ट्रेलिया का एक तेज गेंदबाज अच्छी गेंदबाजी नहीं कर पाया।

3 तेज गेंदबाजों और जडेजा को प्लेइंग इलेवन में देखना चाहूंगा- वॉन

Perth Test 2018 INDvsAUS

जहां दूसरे टेस्ट से पहले ही टीम इंडिया को अश्विन के तौर पर बड़ा झटका लग चुका है, वहीं माइकल वॉन का मानना है कि अश्विन के पर्थ टेस्ट से बाहर होने के बावजूद रविंद्र जडेजा टीम के लिए मददगार साबित हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि जडेजा ऐसे बेहतरीन ऑलराउंडर हैं, जिन्हें मैं टीम में रखना चाहूंगा। वो अच्छी गेंदबाजी के साथ-साथ बेहतरीन बल्लेबाजी और शानदार फील्डर भी हैं। ऐसे में मैं कल के पर्थ टेस्ट के लिए 3 तेज गेंदबाजों और जडेजा को टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन में देखना चाहूंगा।

4 गेंदबाजों के आक्रमण के साथ भी उतर सकती है टीम इंडिया- सूत्र

Perth Test 2018 INDvsAUS

भारत ने दूसरे टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय टीम की घोषणा कर दी है। मांसपेशियों में खिंचाव के कारण गेंदबाजी में भारत की सबसे बड़ी उम्मीद अश्विन पर्थ टेस्ट में नहीं खेल पाएंगे। लिहाजा ये कयास लगाए जा रहे हैं और सूत्रों की भी मानें तो टीम इंडिया पिच के मद्देनजर 4 तेज गेदबाजों के साथ उतर सकती है। बता दें कि ऐसा टेस्ट इतिहास में तीसरा मौका होगा, जब भारत 4 तेज गेंदबाजों के साथ उतरेगा। इससे पहले साल 2018 में जोहानिसबर्ग और 2012 में पर्थ में ऐसा हुआ था।

.
.
.
.
.