Sports

नई दिल्ली: एक टीवी चैट शो में महिलाओं को लेकर अभद्र टिप्पणी करने पर निलंबित कर दिए गए भारतीय क्रिकेटरों हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल ने इस मामले में बिना शर्त माफी मांगी है जबकि बीसीसीआई का संचालन देख रही प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय का कहना है कि बोर्ड को खिलाडिय़ों को सुधारना चाहिए न कि उनका करियर समाप्त करना चाहिए।
PunjabKesari
पांड्या और राहुल ने यह टिप्पणी टीवी शो ‘कॉफी विद करण’ पर की थी जिसके बाद मामले की सुनवाई पूरी होने तक दोनों को निलंबित कर आस्ट्रेलिया दौरे से भी वापिस बुला लिया गया है। दोनों क्रिकेटरों का करियर खतरे में पड़ा हुआ है जबकि इंग्लैंड में होने वाला विश्व कप मात्र चार महीने दूर है। खिलाडिय़ों के खिलाफ जांच को लेकर प्रशासकों की समिति (सीओए) के प्रमुख विनोद राय और सदस्य डायना इडुलजी के बीच मतभेद हैं जबकि बीसीसीआई की 10 सदस्य इकाइयों ने जांच को लेकर लोकपाल नियुक्त करने पर चर्चा के लिए विशेष आम बैठक बुलाने की मांग की है।
PunjabKesari
इडुलजी ने भारतीय क्रिकेटरों को लेकर प्रारंभिक जांच के तरीके पर सवाल उठाते हुए समिति के अध्यक्ष राय को ईमेल लिखा था और जांच बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी से कराने पर असंतोष जताया था। इस मामले में दोनों क्रिकेटरों को नए कारण बताओ नोटिस जारी किए गए थे जिस पर उन्होंने बिना शर्त माफी मांग ली है। इस बीच राय ने इडुलजी को अपने जवाब में कहा है कि बोर्ड को युवा खिलाडिय़ों का करियर तबाह नहीं करना चाहिए बल्कि उन्हें सुधारना चाहिए क्योंकि भारतीय क्रिकेट के हितों को भी ध्यान में रखना है।

.
.
.
.
.