IPL 2019
Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : डॉन ब्रैडमैन और रिचर्ड हैडली को 'नाइटवुड' से सम्मानित किए जाने के बाद ब्रिटेन की पार्लियामेंट में पाकिस्तानी मूल के सांसद ने अपनी आवाज उठाते हुए कुछ अन्य महान क्रिकेटरों को भी ये सम्मान देने की बात कही है। खास बात ये है कि इनमें सचित तेंदुलकर और कपिल देव का नाम भी शामिल है। 'कॉमनवेल्थ डे' पर पाकिस्तानी मूल के सांसद रहमान चिश्ती ने इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि कपिल देव, सचिन तेंदुलकर, इमरान खान और वसीम अकरम जैसे महान क्रिकेटरों को भी 'नाइटवुड' से सम्मानित किया जाना चाहिए। वेस्टमिंस्टर ऍबी में आयोजित 'कॉमनवेल्थ डे सर्विस' के दौरान ब्रिटेन की महारानी एलिबेथ भी मौजूद थी।

PunjabKesari

चिश्ती ने कहा, 'ऑस्ट्रेलिया से सर डॉन ब्रैडमैन को, न्यूजीलैंड से सर रिचर्ड हैडली को नाइटवुड से सम्मानित किया गया है। लेकिन पाकिस्तान, भारत, दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका के महान क्रिकेटरों को इस सम्मान से वंचित रखा गया है। श्रीलंका में मुथैया मुरलीधरन हैं, पाकिस्तान में वसीम अकरम और इमरान खान हैं, दक्षिण अफ्रीका में जैक कैलिस हैं, भारत में सचिन तेंदुलकर और कपिल देव हैं। ये सभी महान क्रिकेटर्स हैं। इस साल जब हम (इंग्लैंड) विश्व कप की मेजबानी कर रहे हैं तो क्या माननीय मंत्री जी यह सुनिश्चित करना चाहेंगे कि विसंगित को दूर करते हुए इन सभी क्रिकेटरों को भी नाइटवुड से सम्मानित किया जाए।'

PunjabKesari

ब्रिटेन के विदेश मंत्री हैरिएट बाल्डविन ने जब क्रिकेट को सभी कॉमनवेल्थ देशों के ​बीच जुड़ाव का एक माध्यम बताया तो चिश्ती ने इस बाबत अपनी आवाज बुलंद करते हुए उपमहाद्वीप के क्रिकेटरों को 'नाइटवुड' से सम्मानित नहीं किए जाने को भेद-भाव बताया। चिश्ती की इस मांग पर उन्हें विदेश मंत्री बॉल्डविन से पाॅजिटिव रिस्पांस मिला और अन्य सांसदों ने भी चिश्ती की इस बात का समर्थन किया।

PunjabKesari
ब्रिटेन की पार्लियामेंट में पाकिस्तानी मूल के सांसद रहमान चिश्ती

ये है नाइटहुड सम्मान

सन् 1917 से ब्रिटिश सरकार विभिन्न क्षेत्रों में अपना योगदान देने वाले अपने नागरिकों को ये सम्मान दे रही है। हालांकि शुरूआती दौर में इस सम्मान के हकदार सिर्फ शीर्ष पदों पर बैठे लोगों या युद्ध के समय वीरता दिखाने वाले जवानों होते थे। लेकिन बाद में इसमें संशोधन किया गया और विभिन्न क्षेत्रों में योगदान देने वाले लोगों को भी नाइटवुड से सम्मानित किया जाने लगा। पांच अलग-अलग रैंक नाइट एंड डेम ग्रैंड क्रॉस (GBE), नाइट एंड डेम कमांडर (क्रमशः KBE और DBE), कमांडर (CBE), ऑफिसर (OBE) और सदस्य (MBE) में से शुरुआती 2 रैंक हासिल करने वालों को सर या डेम की उपाधि दी जाती है।

.
.
.
.
.