Sports

नई दिल्ली : एशियाई खेलों में 100 मीटर और 200 मीटर में रजत पदक जीतकर इतिहास बनाने वाली ओडि़शा की फर्राटा धाविका दुती चंद ने शुक्रवार को यहां कहा कि उनका अब एकमात्र लक्ष्य 2020 के टोक्यो ओलंपिक में देश के लिए पदक हासिल करना है। दुती जकार्ता से स्वदेश लौटीं और आज उनके राज्य ओडि़शा के भुवनेश्वर स्थित कलिंगा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज और कलिंगा इंस्टिट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी ने दिल्ली के कॉन्स्टिट््यूशन क्लब में उन्हें सम्मानित किया। इन दोनों यूनिवर्सिटी के संस्थापक प्रोफेसर अच्युत सामंत ने इस अवसर पर बताया कि राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने दुती को दोनों रजत पदक जीतने के लिए डेढ़-डेढ़ करोड़ रुपए के ईनाम की घोषणा की है और साथ ही अगले ओलंपिक तक उनकी ट्रेनिंग का सारा खर्चा उठाने का वादा किया है।

PunjabKesari

फर्राटा एथलीट ने इस सम्मान से अभिभूत होते हुए कहा- मुझे खुशी और गर्व है कि मैंने महान एथलीट पीटी उषा के बाद फर्राटा स्पर्धा में देश को पदक दिलाया है। मैंने खेलों में जाने से पहले वादा किया था कि मैं पदक जरूर हासिल करूंगी और मैंने इस वादे को पूरा कर लिया है। अब मेरा अगला लक्ष्य 2020 के ओलंपिक हैं।

PunjabKesari

जकार्ता में 11.32 सेकंड का समय लेकर 100 मीटर दौड़ में फोटो फिनिश में रजत जीतने वाली दुती ने कहा- इस साल की हमारी सारी स्पर्धाएं समाप्त हो चुकी हैं। अब अगले साल एशियन चैंपियनशिप और सैफ गेम्स होने हैं। लेकिन मेरा एकमात्र लक्ष्य अगले ओलंपिक हैं और अगले दो साल मैं इसी लक्ष्य के साथ अपनी तैयारी करूंगी।

.
.
.
.
.