Sports

नई दिल्लीः कोच हरेंद्र सिंह ने कहा है कि एशियाई चैंपियन्स ट्राफी विश्व कप के लिए आदर्श तैयारी थी और टीम को अंतिम रूप देने से पहले भारतीय शिविर संभावित खिलाडिय़ों के पास अपनी क्षमता दिखाने का अंतिम मौका होगा। हाकी इंडिया ने बुधवार को पुरुष विश्व कप से पहले अंतिम राष्ट्रीय शिविर के लिए 34 संभावित खिलाडिय़ों की घोषणा की। यह शिविर भुवनेश्वर में 28 नवंबर से 16 दिसंबर तक कलिंगा स्टेडियम में चलेगा।          

खिलाड़ियों के साफ खुद साबित करने का माैका

Hockey, Hockey India, Indian Hockey Team, Camp, Hockey News in hindi, Harendra Singh

इस शिविर में हरेंद्र को मुख्य खिलाडिय़ों के साथ काम करने और अंतिम 18 सदस्यीय टीम चुनने का मौका मिलेगा। हरेंद्र ने कहा, ‘‘मस्कट में पांचवीं एशियाई चैंपियन्स ट्राफी 2018 में हमारा अभियान विश्व कप से पहले टीम की तैयारी के लिए अच्छा था लेकिन अब हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण समय है क्योंकि हमें ऐसे विभागों में काम करना है जिनमें सुधार की गुंजाइश है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह शिविर सभी 34 खिलाडिय़ों को कड़ी मेहनत करने और यह दिखाने का मौका देगा कि वे टीम को क्या मजबूती दे सकते हैं। यह सभी खिलाडिय़ों के लिए मौका है कि वे दिखाएं कि वे टीम को क्या दे सकते हैं।’’ मस्टक में हाल में संपन्न एशियाई चैंपियन्स ट्राफी में पाकिस्तान के साथ भारत संयुक्त विजेता रहा था।           

शिविर के लिए तीन गोलकीपरों पीआर श्रीजेश, सूरज करकेरा और कृष्ण पाठक को चुना गया है। डिफेंडर हरमनप्रीत सिंह, गुरिंदर सिंह, कोथाजीत सिंह, सुरेंदर कुमार, अमित रोहिदास, जरमनप्रीत सिंह, प्रदीप सिंह, सुमन बेक और सुल्तान आफ जोहोर कप 2018 में जूनियर पुरुष टीम के कप्तान मनदीप मोर को भी शिविर में शामिल किया गया है। मिडफील्डरों में मनप्रीत सिंह, चिंगलेनसाना सिंह कांगुजाम, सुमित, सिमरनजीत सिंह, निलाकांत शर्मा, हार्दिक सिंह, ललित कुमार उपाध्याय, विवेक सागर प्रसाद, यशदीप सिवाच और विशाल अंतिल को चुना गया है। 

फारवर्ड पंक्ति के लिए मुकाबला आकाशदीप सिंह, गुरजंत सिंह, मनदीप सिंह, दिलप्रीत सिंह, सुमित कुमार, गुरसाहिबजीत सिंह और शिलानंद लाकड़ा के बीच होगा। इस साल एफआईएच चैंपियन्स ट्राॅफी के दौरान चोटिल हुए दिग्गज स्ट्राइकर रमनदीप सिंह के अलावा अनुभवी डिफेंडरों रूपिंदर पाल सिंह और बीरेंद्र लाकड़ा को भी शिविर में जगह दी गई है। पिछले शिविर में चोटिल हुए फारवर्ड एसवी सुनील को भी शिविर में चुना गया है लेकिन अभी यह स्पष्ट नहीं है कि वह चोट से पूरी तरह उबरे हैं या नहीं।       

.
.
.
.
.