Sports

न्यूयार्कः गत चैंपियन राफेल नडाल ने उतार चढ़ाव भरे रोमांचक क्वार्टर फाइनल में नौवें वरीय डोमीनिक थिएम को पांच सेट में हराकर सातवीं बार अमेरिकी ओपन पुरुष एकल सेमीफाइनल में जगह बनाई। बुधवार रात दो बजकर चार मिनट पर खत्म हुए मैच में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी नडाल ने चार घंटे और 49 मिनट में 0-6, 6-4, 7-5, 6-7 (4/7), 7-6 (7/5) से जीत दर्ज की। नडाल को अब न्यूयार्क में चौथे और करियर के 18वें ग्रैंडस्लैम खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा है।          

नडाल ने पहले सेट में अपनी तीनों सर्विस गंवाई जबकि तीसरे और चौथे सेट में भी उन्होंने र्सिवस गंवाने के बाद वापसी की। नडाल ने टूर्नामेंट का अपना सबसे लंबा मैच खेलने के बाद कहा, ‘‘मुझे परेशान का सामना करना पड़ा, यह सही है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैंने डोमीनिक को सॉरी कहा। वह शानदार खिलाड़ी है, करीबी मित्र जिसे बड़े खिताब जीतने के कई और मौके मिलेंगे।’’ थिएम ने मैच में 18 ऐस और 74 विनर लगाए लेकिन उन्हें 58 सहज गलतियों का खामियाजा भुगतना पड़ा।
PunjabKesari        

अब दोनों का होगा सामना
सेमीफाइनल में नडाल का सामना तीसरे वरीय युआन मार्टिन डेल पोत्रो से होगा जिन्होंने जान इस्नर को हराकर तीसरी बार अमेरिकी ओपन के सेमीफाइनल में जगह बनाई। इस्नर की हार के साथ 2003 से यहां पहला पुरुष एकल चैंपियन खिलाड़ी देने का मेजबान देश का सपना टूट गया। वर्ष 2009 के चैंपियन अर्जेन्टीना के डेल पोत्रो ने स्थानीय खिलाड़ी के खिलाफ पहला सेट गंवा दिया था लेकिन इसके बाद उन्होंने जोरदार वापसी करते हुए 6-7 (5/7), 6-3, 7-6 (7/4), 6-2 से जीत दर्ज की।  
PunjabKesari

अपने घरेलू ग्रैंडस्लैम में पहली बार क्वार्टर फाइनल खेल रहे 11वें वरीय इस्नर ने पहला सेट जीत लिया लेकिन डेल पोत्रो ने तीन घंटे और 31 मिनट चले मैच के दौरान एक बार भी अपनी र्सिवस नहीं गंवाई। इस्नर ने इस मैच में 26 ऐस लगाए लेकिन उन्हें 52 सहज गलतियों का खामियाजा भगतना पड़ा जबकि डेल पोत्रो ने सिर्फ 14 सहज गलतियां की। इस्नर पर 12 मैचों में आठवीं जीत दर्ज करने के बाद डेल पोत्रो ने कहा, ‘‘अपने पसंदीदा टूर्नामेंट अमेरिकी ओपन के सेमीफाइनल में एक बार फिर जगह बनाना मेरे लिए काफी विशेष है।’’ डेल पोत्रो ने स्वीकार किया कि 33 डिग्री तापमान खिलाडिय़ों के लिए असली चुनौती साबित हो रहा है। तीसरे सेट के बाद हालांकि 10 मिनट के गर्मी के ब्रेक ने राहत पहुंचाई है।     

.
.
.
.
.