Sports

नई दिल्ली : वैस्टइंडीज के खिलाफ मौजूदा दो टेस्टों की सीरीज शुरू होने से पहले ही शिखर धवन, मुरली विजय और करुण नायर को टैस्ट टीम से बाहर निकालने पर विवाद हो गया था। करुण नायर ने तो पहले ही बोल दिया था कि राष्ट्रीय टीम के खिलाडि़य़ों और चयनकर्ताओं में संवाद की कमी के कारण ऐसे हो रहा है। अब मुरली विजय ने भी विरोध का बिगुल बजाते हुए कहा है कि न ही मुख्य चयनकर्ता और न ही किसी अन्य व्यक्ति ने इंगलैंड दौरे के दौरान तीसरे मैच में मुझे टीम से बाहर करने पर मुझसे संपर्क किया या बात की। मुझसे उसके बाद से ही किसी ने बात नहीं की है। मैंने टीम प्रबंधन के लोगों के साथ इस बारे में इंगलैंड में बात की थी लेकिन उसके बाद से हमारे बीच कोई बात नहीं हुई है।

हरभजन ने भी उठाए थे सवाल
PunjabKesari

अनुभवी ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने नायर को विंडीज सीरीज में नहीं चुने जाने पर चयन को लेकर सवाल उठाए थे। इसे लेकर भी मुरली ने माना कि खिलाडिय़ों को टीम से बाहर किए जाने की जानकारी देना जरूरी है। उन्होंने कहा- मैं हरभजन की बात से सहमत हूं जिन्होंने चयन प्रक्रिया को लेकर सवाल उठाए हैं। मुझे लगता है कि खिलाडिय़ों को टीम से बाहर करने का कारण बताया जाना चाहिए ताकि उसे पता रहे कि वह चयनकर्ताओं के मापदंड पर खरा क्यों नहीं उतरा। विजय ने कहा- किसी भी खिलाड़ी के लिए एक से अधिक मैचों में खेलना जरूरी होता है नहीं तो आपको टीम में अपनी स्थिति को लेकर हमेशा अनिश्चितता बनी रहती है।

काऊंटी क्रिकेट में चमका था विजय का बल्ला

PunjabKesari
इंगलैंड दौरे के बाद टीम से बाहर किए गए विजय ने काउंटी टीम एसेक्स की तरफ से खेलते हुए प्रभावशाली प्रदर्शन किया।  भारतीय टीम के लिए घरेलू विंडीज सीरीज के बाद आस्ट्रेलिया दौरा अहम होगा जिसके लिए विजय को टीम में जगह बनाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा- मैं आस्ट्रेलिया सीरीज के लिए अपनी तैयारी करने में जुटा हूं। मैं वहां की परिस्थितियों को जानता हूं और 2014-15 की सीरीज में मैंने वहां 500 के आसपास रन बनाये थे। मैं उम्मीद करता हूं कि मुझे टीम में वापिस जगह मिले।

.
.
.
.
.