Sports

नई दिल्लीः हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन में 10 मुकाबलों के बाद भी दिल्ली डायनामोज का जीत का खाता नहीं खुल सका। 10 टीमों की तालिका में सबसे नीचे चल रही दिल्ली की टीम को सोमवार को उसके घरेलू जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में मुंबई सिटी एफसी के हाथों 2-4 से हार मिली। इस सीजन में मुंबई की यह पांचवीं जीत है। नौ मैचों से 17 अंक लेकर मुंबई की टीम तालिका में चौथे स्थान पर पहुंच गई है। दिल्ली के चार अंक हैं और वह फिसड्डी है।
Mumbai City FC image

मुंबई के हाथों मिली दूसरी हार

दिल्ली की यह इस सीजन की छठी हार है। इस सीजन में मुंबई के हाथों दिल्ली की यह दूसरी हार है। अक्टूबर में अपने घर में मुंबई ने दिल्ली को 2-0 से हराया था। बीते नौ मैचों में जीत से महरूम दिल्ली ने तीसरे मिनट में मुंबई के शौवीक चक्रवर्ती किए गए आत्मघाती गोल की मदद से बढ़त हासिल कर ली। इस गोल में एड्रिया कोर्मोना, मार्कोस तेबार और लालियानजुआला चांग्ते की अहम भूमिका रही। चक्रवर्ती ने गोल बचाने के प्रयास में अपने ही गोल में गेंद डाल दी।
Mumbai City FC image

मुंबई ने दूसरे हाफ की शुरुआत 47वें मिनट में एक जोरदार हमले से की लेकिन गोम्स ने उसे नाकाम कर दिया। मुंबई को हालांकि पहले गोल के लिए ज्यादा देर इंतजार नहीं करना पड़ा। 48वें मिनट में बॉक्स में प्रीतम कोटाल ने हैंडबॉल किया और रेफरी ने बिना देरी किए मुंबई को पेनल्टी दे दिया। इस पेनल्टी पर 49वें मिनट में गोल करते हुए बास्तोस ने मुंबई को 1-1 की बराबरी दिला दी।  61वें मिनट मार्टी क्रिस्पी के आत्मघाती गोल ने दिल्ली को 1-2 से पीछे कर दिया। क्रिस्पी हेडर के जरिए एक क्रास को बाहर करने का प्रयास कर रहे थे लेकिन गलती से गेंद उनके ही गोल में घुस गई।  
Mumbai City FC image

माचादो करते रहे लगातार हमले

दिल्ली ने हालांकि हार नहीं मानी और 64वें मिनट में गोल करते हुए स्कोर 2-2 कर दिया। यह गोल गियानी जुईवेर्लून ने हेडर के जरिए रेने मिहेलिक की फ्रीकिक पर किया। मुंबई ने 69वें मिनट में गोल करते हुए एक बार फिर बढ़त हासिल कर ली। उसके लिए यह गोल रेनियर ने पाउलो माचादो की मदद से किया। कप्तान माचादो को लगातार हमले करते रहने प्रतिफल 80वें मिनट में मिला और उन्होंने इसोको की मदद से मुंबई के लिए चौथा गोल करते हुए दिल्ली की हार लगभग तय कर दी। माचादो ने इसोको के क्रास पर वॉली से यह गोल किया। इस तरह दिल्ली को घर में सीजन की चौथी हार से रूबरू होना पड़ा। 


 

.
.
.
.
.