Sports

रांची : महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल कप्तान और विकेटकीपर की सूची में शामिल हैं और उनकी इस यात्रा में योगदान देने वाले लोगों को इस पर गर्व है। धोनी के बचपन के कोच केशव रंजन बनर्जी हों, जीव विज्ञान की शिक्षिका सुषमा शुक्ला या फिर मेकोन स्टेडियम के प्रभारी उमा कांत जेना इन सभी को धोनी की यात्रा में योगदान देने का गर्व है। धोनी के जीवन पर बनी फिल्म ‘एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी’ में इनमें से कई किरदारों का जिक्र है और जब आप रांची पहुंचते हैं तो आपके अंदर यह पता करने की उत्सुकता पैदा होती है कि फिल्म के किरदार असल जीवन में कितने अलग या समान हैं।

मैं धोनी का जैविक पिता नहीं लेकिन पिता तुल्य हूं : बनर्जी सर
MS Dhoni teachers and coach tells 6 strange stories of Dhoni

बनर्जी ‘सर’ ने बताया- कुछ लोग मेरे से पूछते हैं कि क्या आपको पैसे दिए गए थे क्योंकि उन्होंने फिल्म में आपके किरदार को दिखाया गया था और इससे मुझे चिढ़ होने लगी थी। उन्होंने कहा- मैं उसका जैविक पिता नहीं हूं लेकिन पिता तुल्य हूं। अगर पिता अपने बेटे से कुछ मांगता है तो यह शर्मनाक है। उनकी ङ्क्षहदी में बंगाली लहजा है जैसा कि फिल्म में राजेश शर्मा के किरदार का था। उन्होंने कहा कि वह काफी शर्मीला लड़का था और अब भी है। वह हमेशा अपनी हंसी में अपनी भावनाओं को छिपा सकता है। उसे पता था कि क्रिकेट उसे वह जीवन दे सकता है जो वह अपने लिए और इससे भी अधिक अपने परिवार के लिए चाहता है। माही अब भी इसी तरह का है।

धोनी ने जब कहा- हम सिंह भी हैं और धोनी भी
MS Dhoni teachers and coach tells 6 strange stories of Dhoni

आस्ट्रेलिया के खिलाफ यहां शुक्रवार को होने वाले तीसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच के संदर्भ में उन्होंने कहा- मुझे तीसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय के दो पास मिले हैं। मैंने माही की मां को फोन किया और उन्होंने इसका इंतजाम कर दिया। विनम्रता ऐसी चीज है जो सभी लगभग लोग धोनी के साथ जोड़ते हैं। जवाहर विद्या मंदिर की सेवानिवृत्त शिक्षिका सुषमा शुक्ला ने कहा- वह काफी शांत बच्चा था। मैंने सातवीं और 8वीं में उसे जीव विज्ञान पढ़ाया। मुझे याद है कि मैंने उससे पूछा था ‘महेंद्र, तुम सिंह हो या धोनी?’ उसने जवाब दिया था- मैडम, हम सिंह भी हैं और धोनी भी’। 

मैच के लिए धोनी ने छोड़ दी थी जीव विज्ञान की परीक्षा

MS Dhoni teachers and coach tells 6 strange stories of Dhoni
सुषमा शुक्ला ने कहा कि क्रिकेट के लिए पूरी तरह समर्पित होने के बावजूद वह 60 प्रतिशत अंक ले आता था। मुझे याद है कि एक बार उसने जीव विज्ञान की प्रयोगात्मक परीक्षा में हिस्सा नहीं लिया क्योंकि उसे किसी मैच में खेलना था और उसी ट्रेन से यात्रा कर रहा था जिससे मैं कर रही थी। सुषमा ने बताया- संभवत: उसे पता था कि मैं वहां थी और उसकी टीम का एक साथी मेरे पास आया और बोला मैडम, क्या आप महेंद्र की शिक्षिका हो। मैंने कहा, कौन धोनी। लड़के ने बताया कि उसने मैच के लिए जीव विज्ञान की प्रयोगात्मक परीक्षा छोड़ दी। ‘लेकिन मैडम, यह लड़का एक दिन दुनिया भर में नाम कमाएगा’।

धोनी की शिक्षिका होने पर होता है मान : आभा सहाय
MS Dhoni teachers and coach tells 6 strange stories of Dhoni

सुषमा और पीटी शिक्षिका आभा सहाय जहां रहती हैं वहां सेलीब्रिटी की तरह हैं और उन्हें सभी जानते हैं। उन्होंने कहा- मैं महाराष्ट्र में अपने पैतृक नगर में रहती हूं और उस फिल्म में हमें लगभग 30 सेकेंड के लिए दिखाया गया इसलिए वे मुझे धोनी की शिक्षिका के रूप में जानते हैं। आभा को धोनी की शिक्षिका होने के कारण जो सम्मान मिलता है वह उनके लिए सर्वोच्च है। उन्होंने कहा- हम गर्व महसूस करते हैं हमने एक विनम्र इन्सान को बनाने में थोड़ी भूमिका निभाई। वह महान खिलाड़ी है लेकिन सफलता हासिल करने के बाद काफी लोगों में ऐसी विनम्रता नहीं होती।

माहिया प्लास्टिक की गेंद और बल्ला लेकर यही घूमता था : उमा कांत जेना
MS Dhoni teachers and coach tells 6 strange stories of Dhoni

मेकोन स्टेडियम के मैदान प्रभारी उमा कांत जेना ने 1985 में पहली बार धोनी को देखा जब वह सिर्फ साढ़े 3 साल के थे। जेना ने याद करते हुए कहा- यह कालोनी का दरवाजा है और माहिया (वह धोनी को इसी नाम से पुकारते थे) प्लास्टिक की गेंद और बल्ले के साथ यहीं घूमता रहता था। उन्होंने कहा- किसने सोचा था कि वह इतना कुछ हासिल कर लेगा। भारतीय कप्तान बनने के बाद वह एक बार आया था और मेरे बेटे विजय को बल्ला और विकेटकीपिंग ग्लव्स दिए। अच्छा प्रदर्शन करने पर उसने पूरी किट देने का वादा किया। जेना ने कहा- और आपको पता है कि सबसे शर्मनाक क्या था? वह जमीन पर बैठा था जबकि मैं कुर्सी पर। मैंने उसे कहा कि ऐसा मत करो लेकिन उसने मेरी बात नहीं सुनी।

बनर्जी सर ने जब धोनी को चाउमीन बनाकर खिलाए

MS Dhoni teachers and coach tells 6 strange stories of Dhoni
बनर्जी ने साथ ही याद किया कि कैसे एक बार धोनी देर रात उनकी शादी की सालगिरह पर बधाई देने पहुंच गए थे और उनकी पत्नी को चाउमीन बनाने के लिए कहा। बनर्जी से बताया कि वह कभी नहीं भूल पाएंगे कि धोनी ने उनकी पत्नी के इलाज में मदद की थी। उन्होंने कहा- मैं अपनी पत्नी को इलाज के लिए वेल्लूर ले जाना चाहता था और हमें 3 महीने बाद का समय मिला था। सिर्फ तभी मैंने उससे बात की थी और पूछा था कि क्या वह मदद कर सकता है। उन्होंने कहा- 15 दिन के भीतर हमें वेल्लूर से फोन आया और मेरी पत्नी का समय पर इलाज हो पाया। मुझे नहीं पता कि उसने किसे फोन किया।

.
.
.
.
.