Sports

जालन्धर : मोनाको ग्रैंड प्रिक्स से पहले फेरारी के खिलाफ मर्सिडीज जैसे अन्य ब्रॉन्ड खड़े हो गए हैं। सभी ने इस कंपनी पर कारों में अवैध पावर बूस्ट सिस्टम लगाने का आरोप लगाया है। मर्सिडीज चीफ टोटो वोल्फ का तो यहां तक कहना है कि फेरारी प्रबंधन लंबे समय से इसका इस्तेमाल कर रहा है। हालांकि यह कहना अब जल्दबाजी होगी कि चीटिंग गाड़ी के इंजन में की जा रही है या चेसी में। लेकिन इसकी जल्द से जल्द जांच होनी चाहिए।
PunjabKesari
फेरारी के ड्राइवर सेबेस्टियन वेट्टल ने इस आरोप पर हैरानी जताई है। उन्होंने कहा है कि वह हर जांच के लिए तैयार हैं। वेट्टल ने कहा कि ऐसा होता है जब आप अच्छा प्रदर्शन कर रहे होते हो। हमें बहुत सारे परीक्षणों से गुजरना पड़ता है। उम्मीद है इस परीक्षण से भी हम सहजे ही बाहर निकल जाएंगे।
PunjabKesari
उधर, रैड बुल के बॉस क्रिस्टियन हॉर्नर का कहना है कि ऐसी कुछ अफवाहें सुनने को मिल रही हैं कि फेरारी ने कुछ गड़बड़ी की हैं। लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि स्पोट्र्स अथॉरिटी एफआईए रेस से पहले हर गाड़ी की जांच करता है। अगर ऐसा है तो सच में यह बड़ी बात है।

मसीर्डिज चीफ टोटो जिस पावर बूस्ट सिस्टम की बात करते हैं दरअसल इसमें पावर स्टोर कर ली जाती है। इंजन जब गर्म होकर थोड़ा धीमा पडऩे लगता है तो यह एक्सट्रा पावर गाड़ी को स्लो नहीं होने देती। बल्कि इससे गाड़ी तूफान का रूप ले लेती है। उधर, एफआईए रेस डायरेक्टर चार्ली विटनिंग का कहना है कि उन्हें यकीन नहीं है कि पहली दो रेस जीतने वाला फेरारी प्रबंधन ऐसा कर सकता है।

.
.
.
.
.