Sports

नई दिल्लीः भारतीय पुरूष हाॅकी टीम के नए कोच हरेंद्र सिंह हाल ही में एक चैनल के साथ रूबरू हुए। इस दाैरान उन्होंने टीम के लिए आगे की प्लानिंग के बारे में बताया आैर साथ ही मिली जिम्मेदारी को पूरी तरह से निभाने की बात कही। हरेंद्र ने कहा कि पुरूष हाॅकी टीम का कोच बनना मेरे लिए साैभाग्य की बात है।

उन्होंने कहा कि मैं पुरूष टीम के साथ पहले से ही बना हुआ हूं। पी आर श्रीजेश से लेकर यानी 2003 से लेकर अब तक जितने भी पुरूष खिलाडी़ आए हैं, हम सभी किसी न किसी मोड़ पर एकत्र होकर काम कर चुके हैं। मुझे लगता है कि मैं लड़कों को समझता हूं, उनकी रणनीति को आैर स्वभाव को समझता हूं। इसलिए मुझे उन्हें समझने में कोई समय नहीं लगेगा। मैं इस हिसाब में मानता हूं कि मुझे नहीं लगता कि मुझे जिम्मेदारी के लिए कम समय मिला है।

कोच पद मिलना मेरे लिए चैलेंज
हरेंद्र ने कहा कि जो जिम्मेदारी मुझे मिली है वो एक मेरे लिए चैलेंज हैं। यह सुखद घड़ी है क्योंकि 2018 हाॅकी के लिए बड़ा साल है आैर ऐसी जिम्मेदारी मिलना किसी के लिए चैलेंज ही होगा। बता दें कि 28 नवंबर से लेकर 16 दिसंबर तक भुवनेश्वर में हाॅकी विश्व कप आयोजित करवाया जाएगा। 

हरेंद्र 2009 से 2011 के बीच भारतीय पुरूष टीम के कोच रह चुके हैं। वह पिछले साल नवंबर से भारतीय महिला टीम के कोच थे जब मारिन को रोलेंट ओल्टमेंस की बर्खास्तगी के बाद पुरूष टीम का कोच बनाया गया था । हरेंद्र के मार्गदर्शन में भारतीय जूनियर टीम ने 2016 में विश्व कप जीता और भारतीय महिला टीम गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेल में चौथे स्थान पर रही । भारतीय टीम ने ओलंपिक चैम्पियन इंग्लैंड को भी हराया था । इससे पहले पिछले साल भारत ने जापान में एशिया कप भी जीता था ।

.
.
.
.
.