Sports

भुवनेश्वरः भारतीय हाॅकी टीम के मुख्य कोच हरेंद्र सिंह ने कहा कि पुरूष हाॅकी विश्व कप में रविवार को बेल्जियम के खिलाफ होने वाला मुकाबला घरेलू टीम के लिए लगभग ‘प्री क्वार्टरफाइनल’ की तरह ही है। भारत को पूल सी में मौजूदा ओलंपिक रजत पदकधारी बेल्जियम, दक्षिण अफ्रीका और कनाडा के साथ रखा गया है और तालिका में शीर्ष पर रहने वाली टीम सीधे अंतिम दौर के लिए क्वालीफाई कर लेगी।           

भारत ने शुरूआती पूल मैच में दक्षिण अफ्रीका को 5-0 से रौंदा था और बेल्जियम ने कनाडा को 2-1 से पराजित किया था। मेजबान टीम को क्वार्टरफाइनल में स्थान सुनिश्चित करने के लिए और क्रास-ओवर से बचने के लिये बेल्जियम पर जीत की दरकार है। टूर्नामेंट के प्रारूप के अनुसार चारों पूल में शीर्ष पर रहने वाली टीम सीधे क्वार्टरफाइनल में प्रवेश कर लेंगी जबकि दूसरे और तीसरे स्थान पर रहने वाली टीम अंतिम आठ दौर में जगह बनाने के लिये क्रास-ओवर मुकाबले खेलेंगी।  

क्वार्टरफाइनल में प्रवेश करना है तो चाहिए जीत

हरेंद्र ने शनिवार को मैच से पूर्व आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘मुझे कोई दबाव नहीं लगता। अगर आप इस दबाव का लुत्फ उठाओगे तो आपको सफलता मिलेगी। मुझे लग रहा है कि कल हमारा प्री क्वार्टरफाइनल मैच है और अगर हमें सीधे क्वार्टरफाइनल में प्रवेश करना है तो कल हमें इसमें जीत हासिल करनी ही होगी। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने अपनी टीम की बैठक में इस पर चर्चा की है और हम एक बार में एक ही मैच पर ध्यान लगायेंगे। ’’ वर्ष 2013 के बाद से भारत का बेल्जियम के खिलाफ रिकार्ड अच्छा नहीं है, उसने इसके खिलाफ केवल पांच मैच में जीत दर्ज की है, उसे 13 मौकों पर पराजय का मुंह देखना पड़ा है लेकिन एक मुकाबला ड्रा रहा था।  
Indian Hockey Team image         

बेल्जियम से मिलने वाली चुनौती के बारे में पूछने पर हरेंद्र ने कहा कि भारत को जीत हासिल करने के लिए अपनी पूरी ताकत से खेलना होगा। उन्होंने कहा, ‘‘अगर आप पिछले चार-पांच वर्षों के ग्राफ को देखोगे तो बेल्जियम की टीम काफी अच्छी है। हमें हालात के अनुसार खेलना होगा। ’’ हरेंद्र ने कहा, ‘‘पिछले पांच-छह महीनों में भारतीय टीम आक्रामक हाकी खेल रही है जो हमारा हथियार होगा और हम इससे समझौता नहीं करेंगे। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें इस बात का ध्यान रखना होगा कि बेल्जियम के खेलने की शैली अलग है, वह हाकी स्टिक लंबवत करके खेलती है। वे समांनातर स्टिक रखकर हाकी नहीं खेलते। इसलिये हमें इस पर ध्यान देना होगा। ’’          

.
.
.
.
.