Sports

दुबईः बांग्लादेशी कप्तान मशरफी मुर्तजा ने कहा कि उनकी टीम शुक्रवार को यहां एशिया कप के फाइनल में अच्छी शुरूआत को भुनाने में नाकाम रही लेकिन जिस तरह उन्होंने भारत को टक्कर दी, उस पर उन्हें फख्र है। अहम खिलाडिय़ों (तमीम इकबाल और शाकिब अल हसन) के बिना फाइनल मुकाबले में उतरी बांग्लादेश को सलामी बल्लेबाजों लिट्टन दास और मेहदी हसन ने शानदार शुरूआत दिलाई। दोनों ने 120 रन की साझेदारी की लेकिन पूरी टीम महज 222 रन पर सिमट गयी।           

बांग्लादेश के बेहतरीन गेंदबाजी के कारण भारतीय टीम को इस छोटे लक्ष्य को हासिल करने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। भारत ने 50वें ओवर की अंतिम गेंद पर एक रन लेकर मैच तीन विकेट से अपने नाम किया। मुर्तजा ने कहा, ‘‘हमारे खिलाडिय़ों को फख्र होना चाहिए। मुझे लगता है हमें काफी कुछ सीखने की जरूरत है। जब भी हम ऐसे टूर्नामेंटों में खेलते है तो किसी स्तर पर संघर्ष करते है। आज (शुक्रवार) हमने अच्छी शुरूआत की लेकिन उसे अच्छे स्कोर में नहीं बदल सके। मैच हमारे नियंत्रण में था, लेकिन मौके को भुना नहीं सके।’’ मुर्तजा ने गेंदबाजी विभाग की तारीफ की लेकिन कहा कि बीच के ओवरों में अगर स्पिनरों ने अच्छी गेंदबाजी की होती तो मैच का नतीजा कुछ और होता।  
PunjabKesari

उन्होंने कहा, ‘‘ अगर हमारे ऑफ स्पिनरों ने बीच के ओवरों में अच्छी गेंदबाजी की होती तो स्थिति कुछ और होती।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ पिछले कुछ मैचों में खराब शुरूआत के बाद भी हम 240-250 का स्कोर कर लेते थे। मुझे लगता है गेंदबाजों ने पूरे टूर्नामेंट में अच्छी गेंदबाजी की। हमें उन पर गर्व है लेकिन अब आगे बढऩा होगा। शाकिब (अल हसन) और तमिम (इकबाल) का ना होना हमारे लिए झटका था, लेकिन मुझे लगता है खिलाडिय़ों ने शानदार काम किया।’’          

.
.
.
.
.