Sports

जालन्धर (जसमीत सिंह) : हैमिल्टन का मैदान एक बार फिर से भारत के लिए अनलकी तो न्यूजीलैंड के लकी साबित हुआ। भारत इस मैदान पर 2003 में मात्र 123 रनों पर ऑल आऊट हुई थी। इस बार प्रदर्शन उससे भी खराब रहा। रोहित शर्मा की अगुवाई वाली भारतीय टीम हैमिल्टन की तेज पिच पर 93 रनों पर ही ऑल आऊट हो गई। न्यूजीलैंड की तरफ से जहां ट्रेंट बोल्ट पांच विकेट लेकर छाए रहे। वहीं, न्यूजीलैंड की पारी की शुरुआत करने वाले मार्टिन गुप्टिल ने पहली ही गेंद पर छक्का लगाकर ऐसा रिकॉर्ड बना दिया जो कि बेहद कम बल्लेबाजों के नाम पर दर्ज है। 

मार्क ग्रेटबैच ने 1992 में लगाया था पहला छक्का
PunjabKesari

मैच की पहली ही गेंद पर छक्के की बात की जाए तो सबसे पहले यह रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के ही बल्लेबाज मार्क ग्रेटबैच ने बनाया था। पाकिस्तान के खिलाफ ऑकलैंड में खेले गए मैच के दौरान मार्क ने वसीम अकरम की गेंद पर यह शॉट खेला था। वैस्टइंडीज के फिलो वैलेंस एक और बल्लेबाज है जिन्होंने भारत के खिलाफ अक्टूबर 1998 में ढाका के मैदान पर यह कारनामा कर दिखाया था। इसके बाद बारी वीरेंद्र सहवाग की आती है जिन्होंने फरवरी 2008 में हुई वीबी सीरिज के दूसरे फाइनल में जैसन गिलेसपी की गेंद को बाऊंड्री पार पहुंचा दिया था। 

गुप्टिल के नाम बतौर ओपनर सबसे ज्यादा स्ट्राइक रेट दर्ज
PunjabKesari

गुप्टिल ने महज 4 गेंदों में एक छक्के और दो चौकों की मदद से 14 रन बनाए। उनकी स्ट्राइक रेट 350 रही जोकि किसी भी ओपनर की अब तक की सर्वश्रेष्ठ स्ट्राइक रेट है। बता दें कि इससे पहले भी यह रिकॉर्ड गुप्टिल के ही नाम था। गुप्टिल ने 2015 में श्रीलंका के खिलाफ महज 40 गेंदों में 9 चौके और 8 छक्कों की मदद से नाबाद 93 रन बना दिए थे। तब उनका स्ट्राइक रेट 310 रन था। 

PunjabKesari

बैंडन मैक्कुलम ने फरवरी 2015 में वैलिंगटन के मैदान पर इंगलैंड के खिलाफ ओपनिंग पर आते हु महज 25 गेंदों में 8 चौके और 7 छक्कों की मदद से 77 रनों की पारी खेली थी।
रोशन महानामा ने 1987 में वैस्टइंडीज के खिलाफ 4 गेंदों में 12 रन बनाए थे। उनका स्ट्राइक रेट तब 300 रहा था।
शाहिद अफरीदी ने डरबन के मैदान पर अफ्रीका इलैवन के खिलाफ 2 गेंदों पर एक छक्के की मदद से 6 रन बनाए थे। उनका स्ट्राइक रेट 300 रहा था। 

भारत के खिलाफ लगातार फेल हो रहे हैं गुप्टिल
PunjabKesari

वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक अपने नाम करने वाले गुप्टिल का बल्ला भारत के खिलाफ पिछली दस पारियों में लगभग खामोश ही रहा है। इस दौरान उन्होंने 15 की औसत से सिर्फ 158 रन ही बनाए हैं। इन रनों में उनका एक अर्धशतक (72) भी शामिल है। इस सीरिज में गुप्टिल भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का लगातार शिकार हुए हैं। भुवनेश्वर सीरिज में उन्हें तीन बार आऊट कर चुके हैं। इस तरह भुवनेश्वर गुप्टिल को सर्वाधिक बार आऊट करने के मामले में प्रवीण कुमार और मोहम्मद शमी (3-3) का रिकॉर्ड साझा कर चुके हैं।

PunjabKesari

.
.
.
.
.