Sports

कोलकाता : भारतीय स्पिनर कुलदीप यादव का मानना है कि आंद्रे रसेल ने टर्न लेती गेंदों के सामने अपनी कमजोरी के संकेत दिए हैं और कहा कि विश्व कप में वेस्टइंडीज के इस विस्फोटक बल्लेबाज को कुंद करने के लिए उनके पास पर्याप्त अस्त्र हैं। रसेल ने कोलकाता नाइटराइडर्स की तरफ से आईपीएल में अब तक बेहतरीन प्रदर्शन किया है। उन्होंने केवल 121 गेंदों पर 257 रन बनाए हैं और उनका स्ट्राइक रेट 212.39 है। लेकिन केकेआर के उनके साथी कुलदीप ने कहा कि उन्होंने रसेल की कमजोरी ढूंढ ली है जिसका वह 30 मई से 14 जुलाई के बीच होने वाले विश्व कप के दौरान फायदा उठाना चाहते हैं। 

PunjabKesari

कुलदीप ने कहा, ‘उसे टर्न लेती गेंदों का सामना करने में कुछ परेशानी होती है। अगर गेंद टर्न ले रही हो तो यह उसकी कमजोरी है।’ उन्होंने कहा, ‘केवल यही नहीं, मैंने विश्व कप में उसके लिये अलग अलग तरह की योजनाएं बनाई हैं। मैं जानता हूं कि उसे कैसे रोकना है और इस बारे में मेरी सोच स्पष्ट है।’ वह रसेल के साथ एक ही ड्रेसिंग रूम में रहते हैं लेकिन कुलदीप ने स्वीकार किया कि वह नेट्स पर कभी रसेल के लिए गेंदबाजी नहीं करते। उन्होंने कहा, ‘वह स्पिनरों के सामने कोई मौका नहीं चूकता। वह तेज गेंदबाजों के लिए आतंक है और मैं उसके लिए कभी नेट्स पर गेंदबाजी नहीं करता। जब आपकी गेंदों पर लगातार दो छक्के लगते हैं तो आप दबाव में आ जाते हैं।’ 

कुलदीप ने कहा, ‘यह महत्वपूर्ण है कि आप कैसे वापसी करते हैं। बल्लेबाज को आउट करने के लिए केवल एक गेंद की जरूरत पड़ती है। आप इससे किसी खिलाड़ी के खेल के स्वभाव का आकलन कर सकते हैं।’ कुलदीप ने अभी तक छह मैचों में केवल तीन विकेट लिये हैं लेकिन भारत के इस चाइनामैन गेंदबाज ने कहा कि वह अपने प्रदर्शन से खुश हैं और वह परिपक्व क्रिकेटर बन गए हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं विकेट नहीं ले रहा हूं इसका मतलब यह नहीं है कि मैं अच्छी गेंदबाजी नहीं कर रहा हूं। अब मैं एक परिपक्व क्रिकेटर की तरह खेल रहा हूं और मैं टीम के बारे में अधिक सोचता हूं। भले ही मैं विकेट नहीं ले रहा हूं लेकिन इकोनोमी रेट अच्छा है।’

PunjabKesari

कुलदीप ने कहा, ‘मुझे लगता है कि इस आईपीएल में बल्लेबाज मेरी गेंदों पर अधिक आक्रमण नहीं कर रहे हैं। बल्लेबाज मेरे खिलाफ बड़े शॉट नहीं खेल रहे हैं। मैं प्रत्येक मैच तीन चार बाउंड्री ही दे रहा हूं जिसका मतलब है कि बल्लेबाज मेरे सामने सतर्कता बरत रहे हैं। केवल दिल्ली का मैच अपवाद है।’ इस 24 वर्षीय गेंदबाज ने भारतीय टीम के अपने साथी युजवेंद्र चहल का उदाहरण दिया जिन्होंने छह मैचों में 9 विकेट लिए लेकिन उनकी टीम रायल चैलेंजर्स बेंगलोर को इन सभी मैचों में हार का सामना करना पड़ा।

कुलदीप ने कहा, ‘चहल अच्छा प्रदर्शन कर रहा है लेकिन टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही है। आपको अपनी रणनीति के अनुसार खेलना होता है। अगर आपकी टीम सबसे निचले पायदान पर हो तो यह मायने नहीं रखता कि आपने 9 विकेट लिए। मैं नहीं मानता कि मैं अच्छी गेंदबाजी नहीं कर रहा हूं।’ उन्होंने कहा कि ईडन गार्डन्स का विकेट भी स्पिनरों को पहले की तरह मदद नहीं दे रहा है। कानपुर के इस स्पिनर ने कहा, ‘विकेट से स्पिनरों को कोई मदद नहीं मिल रही है जैसे कि तीन चार पहले मिलती थी। यह बल्लेबाजों के अनुकूल बन गया है। टी20 क्रिकेट के लिये यह अच्छा है।’ 

.
.
.
.
.