Sports

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली ने फुटबाॅल टीम के कप्तान सुनील छेत्री का समर्थन करते हुए प्रशंसकों से स्टेडियम पहुंच कर टीम की हौसला अफजाई करने की अपील की। छेत्री मुंबई में खेले जा रहे इंटरकांटिनेंटल कप में कल कीनिया के खिलाफ अपना सौवां अंतरराष्ट्रीय मैच खेलेंगे। उन्होंने ट्विटर पर एक वीडियो के जरिए प्रशंसकों से स्टेडियम आ कर मैच देखने की गुजारिश की थी। छेत्री ने प्रशंसकों से भावनात्मक अपील करते हुए कहा, ‘‘हमें गालियां दो, आलोचना करो लेकिन भारतीय फुटबाॅल टीम को खेलते देखने स्टेडियम में आओ।’’

कोहली ने छेत्री का समर्थन करते हुए कहा कि देश के लोगों को हर खेल का बराबर समर्थन देना चाहिए ताकि भारत खेलों को पसंद करने वाला देश बन सके। कोहली ने कहा, ‘‘मेरे अच्छे मित्र और भारतीय फुटबाॅल टीम के कप्तान ने कुछ समय पहले एक पोस्ट (वीडियो) साझा किया। मैं सब से विनती करना चाहता हूं कि भारतीय फुटबाॅल टीम को खेलते हुए देखे। आप चाहे किसी भी खेल का समर्थन करते हो स्टेडियम में जा कर टीम की हौसला अफजाई करे क्योंकि खिलाड़ी काफी मेहनत करते हैं। वे काफी प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं और मैंने पिछले कुछ समय से उन्हें खेलते देखा है। उन्होंने अपने खेल में काफी सुधार किया है।’’      
 


कोहली ने ट्विटर पर पोस्ट किए गए वीडियो संदेश में कहा, ‘‘इससे भारत में खेल संस्कृति को बढ़ावा देने में योगदान मिलेगा जोकि हम सब का सपना हैं। अगर आप खुद को खेलों को पंसद करने वाल देश कहने पर गर्व महसूस करना चाहते है तो सभी खेलों का बराबर समर्थन करना होगा।’’ कोहली ने कहा कि राष्ट्रीय फुटबाॅल टीम के खिलाड़ी देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं इसलिए उन्हें सम्मान और समर्थन मिलना चाहिए। भारतीय टीम हाल ही में फीफा रैकिंग में 97वें स्थान पर पहुंच गई। भारत ने चार देशों के टूर्नामेंट के पहले मैच में चीनी ताइपै को 5 -0 से हराया लेकिन मैच देखने के लिए बमुश्किल 2000 दर्शक पहुंचे थे। भारतीय कप्तान ने अपने अंतरराष्ट्रीय कैरियर में तीसरी बार हैट्रिक लगाई।

छेत्री ने कहा ,‘‘बड़े यूरोपीय क्लबों के प्रशंसकों से मैं इतना ही कहूंगा कि कई बार आप लोगों को लगता होगा कि हमारा स्तर उतना ऊंचा नहीं है तो अपना समय क्यो खराब करें। मैं मानता हूं कि हम उनके जैसा नहीं खेल सकते लेकिन हम अपनी कोशिशों से आपका समय जाया नहीं होने देंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आप सभी के लिए जिन्होंने भारतीय फुटबाॅल से उम्मीदें छोड़ दी है, हम अनुरोध करते हैं कि मैदान पर हमें खेलते देखने के लिए आएं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इंटरनेट पर हमें गालियां देने का आलोचना करने का कोई फायदा नहीं है। स्टेडियम आकर हमारे मुंह पर हमें गालियां दीजिए। हो सकता है कि एक दिन हमारे बारे में आपकी राय बदल जाए और आप हमारे लिए तालियां बजाने लगे। आपका समर्थन हमारे लिए बहुत जरूरी है।’’

.
.
.
.
.