Sports

कोलकाता : भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली का अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट छोड़कर इंगलैंड में काउंटी क्रिकेट खेलने का फैसला कई लोगों को रास नहीं आ रहा है। इसी फेहरिस्त में अब आस्ट्रेलिया के विश्व कप विजेता कप्तान माइकल क्लार्क ने भी एक बयान जारी किया है। क्लार्क का कहना है कि भारतीय कप्तान को बेंगलुरू में होने वाले इस ऐतिहासिक टेस्ट में खेलने के लिए सरे से वापस लौटना चाहिए।

भारतीय कप्तान ने इंग्लैंड के खिलाफ दौरे के लिए खुद को तैयार करने के लिए काउंटी चैम्पियनशिप में सरे की ओर से खेलने के कारण 14 से 18 जून तक आयोजित इस टेस्ट में नहीं खेलने का फैसला किया है। उनके इस फैसले पर अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

क्रिकेट इतिहासकार बोरिया मजूमदार के साथ बातचीत में क्लार्क ने कहा कि उनकी प्राथमिकता हमेशा टेस्ट क्रिकेट खेलने की होगी, भले ही इसमें प्रतिद्वंद्वी टीम कोई भी हो। क्लार्क ने ‘इंडियन चैम्बर्स ऑफ कामर्स’ द्वारा आयोजित सत्र में कहा- मैं सचमुच काफी हैरान हूं। मैं नहीं जानता क्यों, यह विराट का फैसला है। मुझे लगता है कि टेस्ट मैच एक टेस्ट मैच होता है। मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम किसके खिलाफ खेल रहे हैं। यह आपकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। उन्होंने कहा- अपने देश का प्रतिनिधित्व करना दुनिया में सबसे विशेष अहसास है। मैं चाहूंगा कि वह वापस लौटकर आए और टेस्ट खेले। कार्यक्रम में थोड़े दिन खाली हैं, जिससे वह ऐसा कर सकते हैं।

कोहली के लिए 2014 का इंग्लैंड दौरा काफी खराब रहा था जिसमें उन्होंने पांच टेस्ट में 13.4 के औसत से केवल 134 रन बनाए थे। क्लार्क ने हालांकि कोहली के काउंटी क्रिकेट खेलने के फैसले का समर्थन किया और कहा कि इससे साफ संदेश मिलेगा कि इंग्लैंड में उनका लक्ष्य सिर्फ जीतने का है। उन्होंने कहा- निश्चित रूप से यह अच्छी तैयारी है और इससे आपका दृढ़निश्चय दिखता है कि आप व्यक्तिगत रूप से अच्छा प्रदर्शन करने के लिये कितने लालायित हो और वह भारत को कितना सफल देखना चाहता है।

क्लार्क ने कहा- इससे उनके टीम के साथियों और इंग्लैंड को स्पष्ट संदेश मिलता है कि वह ब्रिटेन दौरे को सफल बनाना चाहता है। वह इस सीरीज को जीतना चाहता है। भारत वर्ष का समापन आस्ट्रेलिया के दौरे से करेगा जहां उन्होंने एक भी टेस्ट सीरीज नहीं जीती है और कोहली एंड कंपनी ने बीसीसीआई को अपनी इच्छा स्पष्ट कर दी जिसने एडिलेड ओवल में दिन रात्रि टेस्ट को खारिज कर दिया।

क्लार्क ने कहा- याद रखिये भारत ने आस्ट्रेलिया को आस्ट्रेलिया में कभी नहीं हराया है। इस बार उनके पास मौका है और कोहली, रवि शास्त्री और भारतीय क्रिकट में सभी इसके बारे में सोच रहे हैं। क्लार्क 2011 विश्व कप विजेता कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को 2019 विश्व कप टीम के लिये अहम सदस्य के रूप देखते हैं और उन्होंने कोहली की अगुवाई वाली टीम केा प्रबल दावेदार करार किया।

क्लार्क ने कहा- मैं विराट कोहली को अच्छी तरह जानता हूं। वह इस विश्व कप में दूसरे नंबर पर आने के लिए नहीं जाएगा। वह वहां एक ही लक्ष्य के साथ जायेगा और वो है विश्व कप जीतना। उनके पास इतने सारे मैच विजेता हैं। आपके पास अनुभव है। इसलिये मुझे लगता है कि धोनी को विश्व कप का हिस्सा होना चाहिए। वह पहले भी रह चुका है। आपके पास युवा और अनुभवी खिलाडिय़ों का अच्छा मिश्रण होना चाहिए।

.
.
.
.
.