Sports

स्पोर्ट्स डेस्कः आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारतीय कप्तान विराट कोहली जब मैदान पर उतरे तो वह पूरी तरह अलग से दिखे। उनके बैट का स्टीकर, ग्लब्स और बैट की ग्रिप भी पिंक कलर की थी। कोहली के ऐसा करने के पीछे एक खास वजह भी रही। सिडनी में साल की शुरुआत में खेले जाने वाले टेस्ट मैच को पिंक टेस्ट यानि की गुलाबी टेस्ट कहा जाता है। इसी वजह से कोहली ने अपने बैट पर गुलाबी रंग की ग्रिप चढ़ाई।

10 साल पहले शुरू हुआ पिंक टेस्ट 

एससीजी में पहली बार पिंक टेस्ट साल 2009 में खेला गया था। पहली बार पिंक टेस्ट ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेला गया था। इसके बाद से लगातार ये प्रथा चली आ रही है भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला जा रहा टेस्ट 11वां पिंक टेस्ट मैच है। इस टेस्ट में पूरा स्टेडियम पिंक जैसा चमकता है। कई फैंस भी पिंक ड्रेस में दिखते हैं।
virat kohli image

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज की पत्नी जेन मैक्ग्रा की मौत ब्रेस्ट कैंसर की वजह से हुई थी। इस टेस्ट मैच से जुटाई गई राशि ग्लेन मैक्ग्रा फाउंडेशन को दी जाती है जो कि ऑस्ट्रेलिया में ब्रेस्ट कैंसर के प्रति लोगों को जागरुक करने के साथ-साथ शिक्षा के लिए काम करती है। इस फाउंडेशन की शुरुआत साल 2005 में ग्लैन और उनकी पत्नी जेन ने ब्रेस्ट कैंसर से उबरने के बाद की थी लेकिन इसके तीन साल बाद जेन का निधन हो गया और इसके एक साल बाद पिंक टेस्ट मैच ने वास्तविक्ता का रूप ले लिया। इस मैच के तीसरे दिन को जेन मैक्ग्रा डे के नाम से जाना जाता है। 

.
.
.
.
.