Sports

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली ने गुरुवार को पीपल फोर द एथिकल ट्रीटमेंट आफ एनिमल्स (पेटा) की ओर से राजस्थान के वन एवं पर्यावरण मंत्री को पत्र लिखकर ‘नंबर 44’ से पहचाने जाने वाले हाथी को पुनर्वास केंद्र में भेजने की मांग की है। अमेरिकी पर्यटकों के एक समूह ने पिछले साल जून में आमेर किले में आठ लोगों को बेहद हिंसक तरीके से हाथी को पीटते हुए देखा था और इस हाथी को इस्तेमाल अब भी सवारी ढोने के लिए किया जा रहा है। कोहली ने पत्र में लिखा, ‘‘पेशेवर क्रिकेटर के रूप में मुझे अपने देश का प्रतिनिधित्व करने पर गर्व है लेकिन जब मुझे ‘नंबर 44’ पर पिछले साल घृणित हमले का पता चला तो मुझे काफी शर्म महसूस हुई।’’          

उन्होंने कहा, ‘‘जानवरों के खिलाफ हिंसा पूरी तरह से अस्वीकार्य है, गैरकानूनी शब्द का जिक्र करने की जरूरत की नहीं है, हमारे देश में हाथी के साथ इस तरह का बर्ताव नहीं हो सकता। मैं आपसे विनती करता हूं कि आप नंबर 44 को प्रतिष्ठित पुनर्वास केंद्र में भेजने में मदद करें जिससे कि उसे वह देखरेख मिल सके जिसकी उसे जरूरत है, वह अपने जैसे दूसरों से घुल मिल सके और चेन, उत्पीडऩ और डर के बिना जी सके।’’ कोहली के पत्र में बाद पेटा भारत ने राजस्थान वन विभाग के मुख्य वनजीव वार्डन को शिकायत दी जिसके बाद ‘नंबर 44’ के संरक्षक वसीद खान को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया और उसे इस उत्पीडऩ के लिए दोषी ठहराया गया।
virat kohli image        

नोटिस में कहा गया है कि जयपुर चिडिय़ाघर के क्षेत्रीय वन अधिकारी की जांच और अमेरिकी चश्मदीदों द्वारा मुहैया कराई गई तस्वीरों से संकेत मिलते हैं कि हाथी के साथ क्रूर बर्ताव किया गया जो कई वन्य जीव संरक्षण कानूनों का उल्लंघन है। जयपुर पुलिस ने भी हाथी के साथ दुव्र्यवहार और लोगों को खतरे में डालने के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 429 और 289 के तहत अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।  


 

.
.
.
.
.