Sports

नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया में दमदार प्रदर्शन करने वाले भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को इंग्लैंड में होने वाले क्रिकेट वल्र्ड कप से पहले भारतीय टीम से बाहर किया जा रहा है। दरअसल बीसीसीआई अधिकारियों ने यह फैसला लेते हुए यह तर्क दिया है कि बुमराह फार्म और फिटनेस वर्ल्ड कप में भारत के लिए बेहद महत्वपूर्ण होगी। ऐसे में वह कहीं आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ आगामी एकदिवसीय सीरीज दौरान चोटिल न हो जाएं इसलिए उन्हें कुछ मैचों में विश्राम दिया जा सकता है।  बीसीसीआई के इस फैसलों को कई दिग्गज क्रिकेटरों ने दिलचस्प बताते हुए कहा है कि विश्व कप मई के आखिरी में है। इस बीच कोई बड़ी सीरीज नहीं है। ऐसे में बुमराह को टीम से बाहर करने का फैसला समझ से परे है। 

jasprit bumrah out for indian cricket team for this reason

बता दें कि एमसीजी पर तीसरे टेस्ट मैच में 137 रन की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले बुमराह ने इस साल विदेशी धरती पर नौ टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 48 विकेट लिए। बुमराह ने 9 ओवरों में 379.4 ओवर किए जबकि मोहम्मद शमी ने उनसे कुछ अधिक ओवर (383.5 ओवर) किए लेकिन वह 12 मैचों में खेले। इशांत शर्मा ने इस दौरान 335 ओवर और रविचंद्रन अश्विन ने सर्वाधिक 386 ओवर किए। जहां तक भारत की विश्व कप की तैयारियों का सवाल है तो उसमें अश्विन और इशांत शामिल नहीं है। जिन 20 खिलाडिय़ों को लेकर विश्व कप की टीम तैयार की जाएगी उनमें से 16 का चयन आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड श्रृंखला के लिए किया गया है। इसके अलावा ऋषभ पंत, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे और उमेश यादव भी दावेदारों में शामिल है। जहां तक तेज गेंदबाजों के कार्यभार का सवाल है तो टीम प्रबंधन और चयनकर्ताओं की एक ही राय है।

मुंबई इंडियंस से भी बात करेगा बीसीसीआई

jasprit bumrah out for indian cricket team for this reason
बुमराह का सिडनी में सत्र के आखिरी टेस्ट मैच में खेलना तय है और वह आईपीएल में मुंबई इंडियन्स के भी अहम अंग हैं। उनके कार्यभार को कम करने के लिए हो सकता है कि बीसीसीआई उनकी फ्रेंचाइजी से भी बात करे। बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा- विराट जैसे कद का खिलाड़ी बुमराह के कार्यभार को लेकर उनकी फ्रेंचाइजी से बात कर सकता है। लेकिन बुमराह को लेकर भारतीय टीम के सहयोगी स्टाफ को संबंधित आंकड़े जुटाने होंगे ताकि वह जरूरत पडऩे पर मुंबई इंडियन्स से बात कर सकें।

.
.
.
.
.