Sports

जकार्ताः जापान की युवा तैराक रिकाको इकी तरणताल में अपने छह स्वर्ण पदकों के अभूतपूर्व प्रदर्शन की बदौलतयहां संपन्न हुए 18वें एशियाई खेलों की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुनी गयीं। वह यह सम्मान पाने वाली पहली महिला एथलीट बन गयी हैं। इंडोनेशिया के जकार्ता तथा पालेमबंग में रविवार को एशियाई खेलों का सफल समापन हो गया। इन खेलों में जापान की युवा महिला तैराक इकी ने तरणताल में सर्वाधिक छह स्वर्ण पदक जीते थे जिसकी बदौलत उन्हें इन खेलों की मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर(एमवीपी) चुना गया।  

PunjabKesari

इससे पहले एक एशियाई खेलों में सर्वाधिक पदकों की उपलब्धि उत्तर कोरियाई निशानेबाज सो जिन मैन के नाम थी जिन्होंने 1982 के नयी दिल्ली एशियाई खेलों में सात स्वर्ण और एक रजत सहित सर्वाधिक आठ पदक जीते थे। 18 साल की जापानी खिलाड़ी ने 36 साल बाद इस रिकार्ड की बराबरी करते हुये आठ पदक जीते। उन्होंने तैराकी में छह स्वर्णों सहित दो रिले रजत पदक भी अपने नाम किये हैं। इकी ने अपने सभी छह स्वर्णों को गेम्स रिकार्ड समय के साथ जीता है और उनकी उपलब्धि इसलिए और खास है क्योंकि वह पैन पैसिफिक चैंपियनशिप से सीधे जकार्ता पहुंची थीं जहां उन्होंने स्वर्ण, दो रजत और एक कांस्य जीता था।

PunjabKesari

50 हजार डॉलर मिली ईनामी राशि
एक एशियाई खेलों में किसी महिला एथलीट का यह सर्वाधिक पदक प्रदर्शन है और उन्हें सर्वसम्मति से एमवीपी चुना गया। एशिया ओलंपिक परिषद ने खेलों के आखिरी दिन रविवार को इसकी घोषणा की। इकी ने 50 हजार डॉलर का ईनाम और ट्रॉफी जीतने के बाद कहा, ''मैंने सुना था कि यहां पहले कोई एमवीपी अवार्ड नहीं था और मुझे इसका बुरा लग रहा था, लेकिन बाद में इसे बदला गया और मैं इसे पाकर सम्मानित महसूस कर रही हूं।'' उन्होंने कहा, ''तैराकी स्पर्धाओं के बाद मैं वापिस जापान चली गयी थी। मुझे नहीं पता था कि इंडोनेशिया वापिस आना पड़ेगा। इस जगह पर मेरी बहुत अच्छी यादें हैं।''

PunjabKesari

1998 के बैंकाक गेम्स से शुरू हुये एमवीपी अवार्ड के बाद से इकी जापान की चौथी एथलीट हैं जिन्हें यह अवार्ड मिला है, उन्हें अब दो वर्ष बाद जापान की ही मेजबानी में होने वाले टोक्यो ओलंपिक में भी बड़ी पदक उम्मीद माना जा रहा है। जापान इन खेलों में चीन के बाद सर्वाधिक 75 स्वर्ण, 56 रजत और 74 कांस्य पदकों सहित कुल 205 पदक लेकर दूसरे नंबर पर रहा है। वर्ष 1994 के हिरोशिमा एशियाई खेलों के बाद यह पहला मौका है जब जापान को इन खेलों में दूसरा पायदान मिला है।  तैराकी में जापान और चीन को संयुक्त 19 पदक मिले लेकिन उसने तरणताल में कुल 52 पदकों संग चीन(50) को पीछे छोड़ा। हालांकि ओवरऑल पदकों के मामले में चीन पहले नंबर पर रहा जिसके 132 स्वर्ण सहित 289 पदक हैं।