Sports

मैनचेस्टर: भारतीय टीम के लीजेंड क्रिकेटर कपिल देव ने पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी का समर्थन करते हुए कहा है कि उनकी आलोचना करना गलत है। विश्वकप में धीमी पारी के लिए हो रही धोनी की आलोचना पर उन्होंने कहा, ‘धोनी की आलोचना करना उनके साथ नाइंसाफी है। ऐसा किसी भी बेहतरीन बल्लेबाज के साथ हो सकता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि धोनी अच्छा खेल रहे हैं। हालांकि हो सकता है कि वह लोगों की उम्मीद के अनुरुप प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि हम अपने खिलाड़ियों से जरुरत से ज्यादा उम्मीद करते हैं।

कपिल ने कहा, ‘विराट जैसे आक्रामक कप्तान के साथ धोनी जैसा शांत रहने वाला खिलाड़ी का होना जरुरी है। वह एक अच्छे विकेटकीपर भी हैं और वह अब वैसा प्रदर्शन नहीं कर सकते जैसा 20 या 23 वर्ष की उम्र में करते थे।' विश्वकप में एक रिव्यू के रहने पर नाराजगी जताते हुए पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने कहा, ‘आईसीसी को मैच में रिव्यू की संख्या एक से ज्यादा करनी चाहिए। खासकर नॉकआउट मुकाबलों में तो यह जरुरी है। आईसीसी रिव्यू की संख्या दो या तीन क्यों नहीं करता और पांच मिनट सोचने का वक्त भी देना चाहिए। नॉकआउट मुकाबलों में एक रिव्यू सही नहीं है। एक रन या एक विकेट मैच का रुख बदल सकता है।'

कपिल ने तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी की सराहना करते हुए कहा, ‘जसप्रीत और शमी ने विश्वकप में शानदार प्रदर्शन किया है। कुछ वर्ष पहले तक कोई नहीं सोच सकता था कि बुमराह इस स्तर पर पहुंच सकते हैं। 10 गज के रन अप के साथ 145 किलोमीटर प्रतिघंटे की स्पीड से गेंदबाजी करना आसान नहीं है। ऐसी गेंदबाजी करने के लिए आपके अंदर काबिलयत होनी चाहिए और बुमराह अछ्वुत हैं।' 

.
.
.
.
.