Sports

कोलकात : ईडन गार्डन में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच रोचक मैच खेला गया। बेंगलुरु के 214 रनों के लक्ष्य का जवाब देने उतरी कोलकाता ने बुरी शुरुआत के बावजूद लक्ष्य का अच्छे से पीछे किया। नीतिश राणा और आंद्रे रसैल ने धमाकेदार अर्धशतक लगाए। आखिरी ओवर में कोलकाता को जीत के लिए 24 रन चाहिए थे। लेकिन मोईन अली ने बेहतरीन गेंदबाज कर जीत आरसीबी की झोली में डाल दी। बेंगलुरु ने 10 रनों से यह मैच जीत लिया।

 

इससे पहले बेंगलुरु की टीम ने कप्तान विराट कोहली के शतक की बदौलत 213 रन बनाए थे। हालांकि बेंगलुरु की शुरुआत खराब रही थी। सलामी बल्लेबाज पार्थिव पटेल को चौथे ही ओवर में सुनील नेरेन ने 11 रनों पर आऊट करवा दिया। इसके बाद कप्तान विराट कोहली ने कुछ अच्छे शॉट लगाकर बेंगलुरु को बुरी स्थिति से बाहर निकालने की कोशिश की। इसी बीच नौवें ओवर में आंद्रे रसेल की गेंद पर अकाशदीप नाथ भी चलते बने। अकाशदीप ने 15 गेंदों में एक छक्के की मदद से 13 रन बनाए।

 

ऑलराऊंडर मोईन अली ने आते ही बड़े शॉट लगाने शुरू कर दिए। इसी बीच विराट ने भी हाथ साफ करते हुए केकेआर के गेंदबाजों को धोना शुरू कर दिया। विराट ने इस दौरान अपने आईपीएल करियर की 37वीं फिफ्टी पूरी की। वहीं, मोईन अली ने भी 25 गेंदों पर अर्धशतक लगाकर दर्शकों का मनोरंजन किया। 

 

मोईन ने पारी के 16वें ओवर में केकेआर के गेंदबाज कुलदीप यादव के एक ओवर में 27 रन तक बटोरे। मोईन ने उनकी गेंदों पर तीन छक्के तो दो चौके लगाए। इस ओवर की आखिरी गेंद पर वह छक्का लगाने की कोशिश में प्रसिद्ध कृष्णन के हाथों लपके गए। इसके बाद विराट ने चौके-छक्कों की बारिश ला दी और अपना शतक पूरा किया। विराट ने 59 गेंदों में नौ चौके और चार छक्कों की मदद से 100 रन बनाए।

जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी केकेआर की शुरुआत भी बेहद खराब रही। बेंगलुरु के तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने पहले ही ओवर में क्रिस लिन की विकेट निकाल दी। इसके बाद शुभमन गिल 9 तो रोबिन उथप्पा भी 9 रन बनाकर चलते बने। रन गति बढ़ाने के चक्कर में केकेआर 12 ओवरों में 79 रन पर चार विकेट गंवा चुका था।

केकेआर को जब जीत के लिए करीब 140 रन चाहिए थे तब नीतिश राणा का साथ देने आंद्रे रसेल क्रीज पर उतरे। दोनों ने तूफानी पारियां खेलते हुए अपने-अपने अर्धशतक पूरे किए। रसेल तो आज अलग ही टच में दिखे। उन्होंने अर्धशतक बनाते वक्त सात छक्के लगा दिए थे। आखिरी ओवर में केकेआर को जीत के लिए 24 रनों की जरूरत थी। लेकिन यह लक्ष्य पूरा नहीं हो सका।

.
.
.
.
.