Sports

दुबईः अंत के ओवरों में रिटायर्ड हर्ट होकर दोबारा क्रीज पर लौटे केदार जाधव और कुलदीप यादव की सूझबूझ भरी बल्लेबाजी के कारण भारतीय टीम ने बांगलादेश को तीन विकेट से हराकर आखिरकार 7वीं बार एशिया कप पर कब्जा कर लिया। बांगलादेश ने पहले खेलते हुए 223 रन बनाए थे जिसे भारतीय टीम ने 50वें ओवर में पूरा कर लिया। हालांकि इस छोटे लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी। हालांकि शुरुआती कुछ ओवरों में शिखर धवन और रोहित शर्मा ने तेजी से रन जरूर बनाए लेकिन जैसे ही 35 के कुल स्कोर पर शिखर धवन (15) का विकेट गिरा, पीछे-पीछे अंबाति रायडू भी महज 2 रन पर मुर्तजा की गेंद पर रहीम को कैच थमा बैठे। 46 रन पर दो विकेट गिरने के बाद रोहित ने पारी संभालने की कोशिश की लेकिन 17वें ओवर में वह भी रूबेल की गेंद को बाऊंडी दिखाने के चक्कर में इस्लाम को कैच थमा बैठे। रोहित ने 55 गेंदों में तीन चौके और तीन छक्कों की मदद से 48 रन बनाए। इसके बाद दिनेश कार्तिक और महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय पारी को आगे बढ़ाया।

PunjabKesari

कार्तिक अच्छे टच में नजर आ रहे थे लेकिन 31वें ओवर में वह महमदुल्लाह की गेंद पर पगबाधा हो गए। उन्होंने 61 गेंदों में एक चौके और एक छक्के की मदद से 37 रन बनाए। धोनी ने भी कुछ अच्छे शॉट मारे लेकिन बड़े मैचों में धीमा खेलने की आदत उन्हें इस मैच पर भी भारी पड़ गई। रन रेट जब बढ़ती गई तो दबाव में धोनी भी विकेटकीपर रहीम को कैच थमा बैठे। धोनी ने 67 गेंदों में 3 चौकों की मदद से 36 रन बनाए। इसी दौरान केदार यादव भी अपने मसल्स में खिंचाव के कारण रिटायर्ड हर्ट होकर मैदान से बाहर चले गए। 

PunjabKesari

भारत धीरे-धीरे लक्ष्य पाने के लिए ओर बढ़ रहा था तभी रवींद्र जडेजा रूबेल की गेंद पर विकेटकीपर रहीम को कैच थमा बैठे। जडेजा ने 33 गेंदों में एक चौके की मदद से 23 रन बनाए। वहीं, दूसरी ओर भुवनेश्वर कुमार एक चौका और एक छक्का लगाकर फैंस की धड़कनें बढ़ा चुके थे। लेकिन 49वें ओवर में उनके भी बल्ले का बाहरी किनारा लेते हुए बॉल रहीम के दस्तानों में समा गई। भुवनेश्वर ने 31 गेंदों में 21 रन बनाए। अंत में आए कुलदीप यादव ने महत्वपूर्ण 5 रन बनाकर टीम इंडिया को जीत की दहलीज तक पहुंचाया। केदार जाधव ने 26 गेंदों में एक चौके और एक छक्के की मदद से 23 रन बनाए।

 

BAN 222 (48.3 Ovs)

IND 223/7 (50.0 Ovs)

  CRR: 4.46

India won by 3 wkts

इससे पहले कुलदीप यादव और केदार जाधव की भारतीय स्पिन जोड़ी ने एशिया कप फाइनल में  लिटन दास के शतक के बावजूद बांग्लादेश को 222 रन पर समेट दिया । खिलाडिय़ों की चोट से जूझ रही बांग्लादेशी टीम ने अच्छी शुरूआत की । दास ने 117 गेंद में 121 रन बनाकर बांग्लादेश को अच्छी शुरूआत दी लेकिन बाद के बल्लेबाज लय कायम नहीं रख सके । दास और मेहदी हसन मिराज (32) ने पहले विकेट के लिये 120 रन जोड़े । ऐसा लगने लगा था कि बांग्लादेश बड़ा स्कोर बनाएगा लेकिन इसके बाद 10 विकेट 102 रन के भीतर गिर गए और पूरी पारी 48 . 3 ओवर में सिमट गई ।           

PunjabKesari

चाइनामैन कुलदीप ने 45 रन देकर तीन विकेट लिए जबकि केदार ने नौ ओवर में 41 रन देकर दो विकेट चटकाए । बांग्लादेशी टीम गैर जिम्मेदाराना शाट खेलकर विकेट गंवाती गई । महेंद्र सिंह धोनी की कुशल स्टंपिंग और रविंद्र जडेजा के चुस्त क्षेत्ररक्षण ने भी भारतीय टीम की मैच में वापसी कराई ।  मिराज को सलामी बल्लेबाज के तौर पर भेजना कप्तान मशरेफी मुर्तजा का मास्टरस्ट्रोक साबित हुआ । मिराज ने दास के साझेदार की भूमिका बखूबी निभाकर टीम को अच्छी शुरूआत दी । दोनों ने जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार को चौके लगाये । युजवेंद्र चहल को आते ही मिडविकेट पर छक्का लगाया ।  

PunjabKesari

भारत को पहली सफलता केदार ने 21वें ओवर में दिलाई जब मिराज उनकी गेंद पर कवर में अंबाती रायुडू को कैच दे बैठे । इमरूल कायेस (दो) को चहल ने पगबाधा आउट किया । फार्म में चल रहे मुशफिकर रहीम (दो) ने केदार की गेंद पर डीप मिडविकेट में कैच थमाया । एक समय पर बिना किसी नुकसान के 120 रन से बांग्लादेश का स्कोर तीन विकेट पर 137 रन हो गया । मोहम्मद मिथुन (दो) आउट होने वाले अगले बल्लेबाज थे । जडेजा ने बेहतरीन क्षेत्ररक्षण का नमूना पेश करते हुए उन्हें रन आउट किया । महमूदुल्लह ने कुलदीप की गेंद पर डीप मिडविकेट में बुमराह को कैच थमाया । दास ने अपनी पारी में 12 चौके और दो छक्के लगाये और वह स्टंपिंग का शिकार हुए ।     

PunjabKesari

टीमें - भारत : रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, अंबाती रायुडू, दिनेश कार्तिक, महेंद्रसिंह धोनी, केदार जाधव, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह।

बांग्लादेश : लिटन दास, सौम्या सरकार, नजमुल इस्लाम, मोहम्मद मिथुन, मुश्फिकुर रहीम, इमरूल कायस, महमदुल्लाह, मशरफे मुर्तजा (कप्तान), मेहदी हसन, रूबेल हुसैन, मुस्ताफिजुर रहमान।