Sports

नई दिल्लीः भारत ने विश्व कप 2015 के बाद जो 72 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेले उनमें 11 खिलाडिय़ों को नंबर चार पर उतारा लेकिन पहली बार कप्तान विराट कोहली को लग रहा है कि टीम को इस महत्वपूर्ण नंबर पर अंबाती रायुडु के रूप में एक बुद्धिमान बल्लेबाज मिला है।           

दिलचस्प बात यह है कि रायुडु केवल चार पारियों में नंबर चार पर खेलने के लिये उतरे हैं जिनमें उन्होंने 72.33 की औसत से 217 रन बनाये हैं। इनमें सोमवार को वेस्टइंडीज के खिलाफ मुंबई में बनाया गया शतक भी शामिल है जिसके बाद कोहली और उप कप्तान रोहित शर्मा ने उन्हें इस स्थान के लिये सबसे उपयुक्त बल्लेबाज करार दिया था।           

धोनी का रहा ऐसा प्रदर्शन

World Cup 2015, Indian Cricket Team, World Cup 2019, Cricket News in hindi, BCCI

आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में खेले गए पिछले विश्व कप के बाद भारत ने 11 बल्लेबाजों को नंबर चार पर उतारा। इनमें से महेंद्र सिंह धोनी सर्वाधिक 11 पारियों में इस नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे जिनमें उन्होंने 32.81 की औसत से 361 रन बनाए। धोनी हालांकि पिछले कुछ समय से फार्म से जूझ रहे हैं जिसके कारण उन्हें वेस्टइंडीज और आस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 श्रृंखला के लिये नहीं चुना गया।           

रहाणे भी रहे नाकाम

World Cup 2015, Indian Cricket Team, World Cup 2019, Cricket News in hindi, BCCI
अंजिक्य रहाणे को एक समय नंबर चार के लिए आदर्श बल्लेबाज माना जाता था लेकिन वह निरंतर अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे। रहाणे ने नंबर चार पर दस पारियों में 46.66 की औसत से 420 रन बनाए जिसमें चार अर्धशतक शामिल हैं। रहाणे फिलहाल वनडे टीम से बाहर हैं। 

युवी भी नहीं दिखा पाए जलवा

yuvraj singh, भारत ने वर्ल्ड कप 2015 के बाद नंबर चार पर आजमाए 11 बल्लेबाज

युवराज सिंह भी इस बीच नौ पारियों में नंबर चार पर उतरे और उन्होंने 44.75 की औसत से 358 रन बनाए जिसमें 150 रन की एक पारी भी शामिल है। युवराज इस पारी के अलावा कुछ खास जलवा नहीं दिखा पाए थे जिससे उन्हें टीम में अपना स्थान गंवाना पड़ा।

दिनेश कार्तिक (नौ पारियों में 52.80 की औसत से 264 रन) अब भी इस स्थान पर अपना दावा ठोकने की कोशिश कर सकते हैं। इनके अलावा मनीष पांडे (सात पारियों में 183 रन), हार्दिक पंड्या (पांच पारियों में 150 रन), मनोज तिवारी (तीन पारियों में 34 रन) लोकश राहुल (तीन पारियों में 26 रन) और केदार जाधव (तीन पारियों में 18 रन) भी इस बीच चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे लेकिन प्रभावित करने में असफल रहे।      

.
.
.
.
.