Sports

जालन्धर : मोहाली वनडे में भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया के हाथों शर्मनाक हार झेलनी पड़ी। भारतीय टीम ने पहले खेलते हुए धवन के तूफानी शतक की बदौलत 358 रन बनाए थे। लेकिन भारतीय गेंदबाजों के लचर प्रदर्शन और विकेटकीर रिषभ पंत की खराब कीपिंग के चलते भारतीय टीम को हार झेलनी पड़ी। अकेले पंत ही नहीं ये क्रिकेटर भी भारत की हार के लिए जिम्मेदार माने जा सकते हैं।

Sports

विराट कोहली : कप्तान विराट कोहली नेभ्भले ही इस सीरीज में दो शतक लगा दिए हैं लेकिन मोहाली वनडे में जब टीम को उनकी जरूरत थी तब वह गैर जिम्मेदाराना शॉट खेलकर आऊट हो गए। धवन और रोहित ने भारत को मजबूत शुरुआत दी थी। कोहली टिके रहते तो टीम इंडिया 400 रन का आंकड़ा पार कर सकती थी। लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। इसके अलावा बॉलिंग के वक्त लिए गए उनके कुछ फैसले भी विवाद में आए।

डीआरएस : निश्चित तौर पर टीम इंडिया की हार के पीछे डीआरएस का महत्वपूर्ण रोल है। ऑस्ट्रेलिया के मैच विजयी क्रिकेटर एश्टन टर्नर जब 44वें ओवर में 41 रन पर खेल रहे थे। तब गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर पंत के दस्तानों में समा गई थी। जोरदार अपील ठुकराई जाने के बाद कोहली ने डीआरएस ले लिया। स्नीकोमीटर में गेंद बल्ले से टकराती दिख रही थी लेकिन थर्ड अंपायर ने इसे नॉट आऊट करार दिया।

Sports

ऋषभ पंत - पंत ने भले ही बल्लेबाजी करते हुए 24 गेंदों में चार चौके और एक छक्के की मदद से 36 रन बनाए। लेकिन फील्डिंग करते हुए उनके अतिउत्साह ने टीम इंडिया की नैय्या डुबो दी। पंत ने दो बार स्टंम्पिंग चांस छोड़े। इनमें एक स्टंम्पिग तो ऑस्टे्रलिया को मैच जिताने वाले एश्टन टर्नर की भी थी। पंत के खराब प्रदर्शन के चलते मैदान में पहुंचे दर्शक तो धोनी-धोनी के नारे लगाने लग गए थे।

युजवेंद्र चहल - टीम इंडिया के लेग स्पिनर ने मैच दौरान बेहद महंगे साबित हुए। उन्होंने अपने कोटे के 10 ओवर में 80 रन खर्च कर दिए। चहल अब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वन-डे में सबसे ज्यादा रन खर्च करने वाले भारतीय स्पिनर भी बन गए हैं। चहल ने मैच दौरान कई गेंदें फुलटॉस दी जिसका ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने दबाकर फायदा उठाया।

Sports

केदार यादव - हैदराबाद वनडे में टीम इंडिया को जीत की राह पर ले जाने वाले केदार मोहाली में न तो बल्ले से कमाल दिखा पाए और न ही गेंद से। बल्लेबाजी करते हुए वह महज 10 रन ही बना पाए। जबकि बॉलिंग करते वक्त उन्होंने पांच ओवर में 44 रन गंवा दिए। मैच खत्म होने के बाद कोहली ने भी कहा कि उन्हें पांचवें स्पैशलिस्ट गेंदबाज की कमी खल रही है।

.
.
.
.
.