Sports

नई दिल्लीः आईपीएल सीजन-11 उस मोड़ पर आ चुका है जहां एक हार किसी टीम भी को प्लेआॅफ से बाहर का रास्ता दिखा सकती है। चेन्नई सुपर किंग्स आैर सनराइजर्स हैदराबाद पहले से ही प्लेआॅफ में पहुंच चुकीं हैं, लेकिन अब जंग है 2 अन्य ऐसी टीमों को लेकर जो यहां पहुंचना चाहती हैं। हालांकि साफ ताैर पर दिल्ली डेयरडेविल्स ही प्लेआॅफ की दाैड़ से बाहर हुई है।

बाकी 5 टीमों में अभी भी अगर-मगर के फेर में प्लेआॅफ में पहुंचने की रेस कायम है। राॅयल चैलेंजर्स बेंगलुरू ने टूर्नामेंट के 51वें मुकाबले में हैदराबाद को 14 रन से हराकर प्वाइंट टेबल में घमासान मचा दिया। इसकी के साथ उसके प्लेआॅफ में पहुंचने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। साथ ही मुंबई इंडियंस भी जगह बनाने में आगे है। 

ऐसे खुलेगा मुंबई का प्लेआॅफ में पहुंचने का रास्ता
केकेआर, पंजाब, राजस्थान, मुंबई आैर बेंगलुरू में प्लेआॅफ में पहुंचने की रेस है। मगर इन पाचों टीमों के एक-एक मैच बाकी हैं आैर सभी को मैच जीतना जरूरी है। अगर एक भी टीम हारी उसे बाहर का रास्ता देखना होगा। मुंबई को अगर प्लेआॅफ में प्रवेश करना है तो इससे पहले कोलकाता को 19 मई को हैदराबाद के खिलाफ होने वाला मैच हारना पड़ेगा। इसके बाद मुंबई को 20 मई को डेयरडेविल्स के खिलाफ होने वाले मैच में किसी भी हालात में जीत दर्ज करनी हो। अगर ऐसा हुआ तो मुंबई-कोलकाता के अंक 14-14 हो होंगे लेकिन रन रेट के आधार पर मुंबई प्लेेआॅफ में पहुंच जाएगा आैर कोलकाता बाहर हो जाएगा। मुंबई की रन रेट +0.384 है जबकि कोलकाता की -0.091 है। 

बेंगलुरू का प्लेआॅफ में पहुंचने का रास्ता
अब जो चाैथी टीम प्लेआॅफ में जाने की दावेदार नजर आ रही है वो फिलहाल बेंगलुरू ही दिख रही है। पर इसके लिए बेंगलुरू को 19 मई को राजस्थान के खिलाफ होने वाला मुकाबला जीतना होगा। इस जीत के साथ बेंगलुरू के 14 मैचों में 14 अंक हो जाएंगे पर उन्हें प्लेआॅफ में जाने के लिए दूसरे मैचों के नतीजों पर निर्भर रहना पड़ेगा। बेंगलुरू खेमा प्रार्थना करेगा कि पंजाब अपना बचा आखिरी मैच हार जाए जो चेन्नई के खिलाफ 20 मई को खेला जाएगा। अगर पंजाब हारता है तो बेंगलुरू 14 अंकों के साथ अच्छी रन के आधार पर प्लेआॅफ में पहुंच जाएगा। बेंगलुरू की रन रेट +0.264 है, जबकि पंजाब की -0.490 है।    

 
'

.
.
.
.
.