Sports

भुवनेश्वर : रियो ओलंपिक चैम्पियन और दुनिया की दूसरे नंबर की टीम अर्जेंटीना को तनावपूर्ण मुकाबले में 3-2 से हराकर इंग्लैंड ने लगातार तीसरी बार हाकी विश्व कप के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। विश्व रैंकिंग में 7वें स्थान पर काबिज इंग्लैंड की टीम 2010 और 2014 विश्व कप में भी सेमीफाइनल में पहुंची थी। वहीं इस टूर्नामेंट में अर्जेंटीना दो साल पहले रियो ओलंपिक में किए गए प्रदर्शन को दोहरा नहीं सकी। पूल चरण में भी उसे फ्रांस ने 5-3 से हरा दिया था। पहला क्वार्टर गोलरहित रहने के बाद इंग्लैंड ने तीनों क्वार्टर में फील्ड गोल किए जबकि पेनल्टी कार्नर विशेषज्ञ गोंजालो पेलाट के दो गोल के बावजूद अर्जेंटीना वापसी नहीं कर सकी।

Hockey world cup : England beat Argentina to enter in semi final

इंग्लैंड के लिए बैरी मिडिलटन (27वां) , विल कैलनान (45वां) और हेनरी माॢटन (49वां) ने गोल दागे जबकि अर्जेंटीना के लिये पेलाट ने 17वें और 48वें मिनट में गोल किए। मैच में अर्जेंटीना के चार और इंग्लैंड के तीन खिलाडिय़ों को पीले और हरे कार्ड दिखाए गए। अर्जेंटीना के गोलकीपर जुआन विवाल्डी ने कुछ अच्छे गोल बचाये वरना अंतर और भी अधिक होता । अर्जेंटीना को पहले क्वार्टर में मिला पेनल्टी कार्नर बेकार गया लेकिन दूसरे क्वार्टर की शुरूआत में ही पेलाट ने पेनल्टी कार्नर को तब्दील करके टीम को बढ़त दिलाई।

Hockey world cup : England beat Argentina to enter in semi final

इंग्लैंड के लिए जेम्स गाल और फिल रोपर ने दाहिने छोर से बेहतरीन जवाबी हमला किया लेकिन पहले प्रयास में सफलता नहीं मिली। इसके बाद लियाम एंसेल अर्जेंटीना के डिफेंडरों को छकाते हुए गेंद लेकर आगे बढ़े और सर्कल के ऊपर बैरी मिडिलटन को गेंद सौंपी जिन्होंने गोल करने में कोई चूक नहीं की। तीसरे क्वार्टर में अर्जेंटीना को 36वें मिनट में मिला पेनल्टी कार्नर बेकार गया जबकि इंग्लैंड की टीम भी 40वें मिनट में मिले लगातार दो पेनल्टी कार्नर पर गोल करने में नाकाम रही। 

क्वार्टर के आखिरी मिनट में कैलनेन ने गोल करके उसे बढत दिलाई हालांकि आखिरी क्वार्टर के दूसरे ही मिनट में पेलाट ने फिर अर्जेंटीना को मैच में लौटाया। बराबरी के गोल से स्तब्ध इंग्लैंड ने जवाबी हमले तेज कर दिए और इसी प्रयास में उसे 48वें मिनट में हैरी माॢटन ने एक बार फिर बढ़त दिलाई जो अंत तक कायम रही। अर्जेंटीना के आक्रमण में आखिरी मिनटों में धार नजर नहीं आई।

.
.
.
.
.