Sports

जालन्धर : भारतीय वुमन हॉकी टीम की डिफैंडर सुनीता लाकड़ा ने कहा है कि अगर आप ठीक प्रदर्शन न कर रहे हो तब लोगों की मोटिवेशन से सब सुधारा जा सकता है। अगर हमें भी हॉकी फैंस का स्पोर्ट मिलता तो कॉमनवैल्थ गेम्स में हमारा रिजल्ट कुछ और होता।
सुनीता ने कहा कि इस बार कॉमनवैल्थ गेम्स दौरान हमसे बड़ी उम्मीदें थीं। क्योंकि हम लंबे अर्से बाद वुमन रैंकिंग के टॉप-10 में पहुंचे थे। हमने अच्छी शुरुआत करनी थी लेकिन हम इसमें सफल नहीं हो पाए। वेल्स से हारने के बाद हमने कुछ मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन यह इतना काफी नहीं था कि हमें पदक दिला दें। 
गेम्स दौरान हमें सबसे बड़ा घाटा मोटिवेशन की कमी के कारण हुई। अगर फैंस हमें स्पोर्ट करते तो नतीजा कुछ और भी होता। हालांकि हम अभी भी निराश नहीं हैं। कॉमनवैल्थ में हमने जो गलतियां कीं उसका एनालिसिस चल रहा है। हम देख रहे हैं कि आखिर कहां चूक हुईं। यह जांच दोनों स्तर तकनीक और प्रदर्शन के आधार पर भी जारी है। उम्मीद है कि इसके आने वाले दिनों में कुछ अच्छे नतीजे देखने को मिलेंगे।