Sports

नई दिल्लीः खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि अगर उनके अधिकारी खिलाडिय़ों को प्रोत्साहन राशि स्वीकृत करने में विलंब करेंगे तो वह उन्हें बर्खास्त करने से नहीं हिचकेंगे लेकिन साथ ही उन्होंने झूठे आरोपों के खिलाफ चेतावनी भी दी। यहां राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेताओं के सम्मान समारोह में राठौड़ ने कहा कि भारतीय खेलों में पैसे की कोई कमी नहीं है लेकिन खिलाडिय़ों और महासंघ को कोष का इस्तेमाल उचित उद्देश्य के लिए करना चाहिए। खेल मंत्री ने कहा, ‘‘खेल मंत्रालय और भारतीय खेल प्राधिकरण के अधिकारियों को आपकी जरूरतों और समस्याओं का जल्द से जल्द हल करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। अगर किसी भी समय मैंने सुना कि खिलाडिय़ों को प्रोत्साहन राशि या कोष हासिल करने में दिक्कत हो रही है तो कुछ अधिकारियों को बर्खास्त किया जा सकता है।’’          

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन आप (खिलाड़ी) कोई आरोप लगाने से पहले सुनिश्चित कर लें कि गलती हमारी ओर से है, आपकी ओर से नहीं। मेरे सामने एक मामला आया था जिसमें एक खिलाड़ी शिकायत कर रहा या रही थी कि उसे प्रोत्साहन राशि नहीं मिल रही। मैं अपने एक अधिकारी को निलंबित करने वाला ही था कि बाद में पता चला कि खिलाड़ी को एक साल पहले ही पैसा आवंटित किया जा चुका है।’’ भारत ने गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य पदक सहित कुल 66 पदक जीते। भारत के कुल 70 खिलाडिय़ों ने पदक हासिल किए जिसमे मिश्रित टीम और युगल खिलाड़ी भी शामिल हैं। राठौड़ ने भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा की मौजूदगी में पदक विजेताओं को प्रोत्साहन राशि दी। एमसी मैरीकोम, सुशील कुमार, साइना नेहवाल, पीवी सिंधू, मीराबाई चानू, नीरज चोपड़ा, मनु भाकर, अनीष भानवाला और जीतू राय सहित अधिकांश शीर्ष खिलाड़ी कार्यक्रम में मौजूद थे। मनिका बत्रा और हीना सिद्धू जैसी खिलाडिय़ों ने हालांकि पूर्व कार्यक्रमों के कारण इसमें हिस्सा नहीं लिया।     

बत्रा से मिल रहे हैं सकारात्मक संकेत
व्यक्तिगत स्वर्ण पदक विजेताओं को 30-30 लाख रुपए जबकि रजत और कांस्य पदक विजेताओं को क्रमश: 20 और 10 लाख रुपए दिए गए। टीम स्पर्धाओं में अलग अलग खेलों में खिलाडिय़ों को अलग अलग राशि मिली। राठौड़ ने कहा कि आईओए और राष्ट्रीय खेल महासंघों के संचालन में सुधार हुआ है लेकिन मंत्रालय द्वारा उन्हें आवंटित कोष को उचित तरीके से खर्च करने की जरूरत है। ओलंपिक रजत पदक विजेता निशानेबाज रहे राठौड़ ने कहा, ‘‘मुझे बत्रा से काफी सकारात्मक संकेत मिल रहे हैं। वह पहले ही आईओए के भीतर बदलाव आ रहे हैं। आईओए जिस तरह काम करता आया है वह अब नहीं होने वाला। इसी तरह कुछ एनएसएफ के प्रमुख बेहतरीन हैं और काफी अच्छा काम कर रहे हैं।’’ मंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भारतीय खिलाडि़ेयों का मजबूत प्रदर्शन देश के दर्जे को दिखाता है। इससे पहले सुबह पदक विजेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आधिकारिक आवास पर मुलाकात की। खिलाड़ी राष्ट्रपति राम नाथ कोविंग से भी मिले।     


पत्नी और बेटी के साथ गेल केरल में कर रहे हैं पूरी मस्ती, शेयर की तस्वीरें

.
.
.
.
.