Sports

नई दिल्ली : इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में गुजरात टाइटंस की अगुवाई करने को तैयार चोट से परेशान रहने वाले भारतीय हरफनमौला हार्दिक पांड्या ने कहा कि उनके खेल और फिटनेस में सुधार जारी है और उनका ध्यान वैसी चीजों पर है जो उनके नियंत्रण में है। यह 28 साल का खिलाड़ी 2019 में पीठ में चोट लगने के बाद से फिटनेस की समस्याओं से जूझ रहा है। इसी वजह से उन्हें न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका, वेस्टइंडीज और श्रीलंका के खिलाफ पिछली कुछ श्रृंखलाओं के लिए भारतीय टीम में जगह नहीं मिली। 

हार्दिक ने कहा कि मैं बस परिवार के साथ समय बिता रहा था, हमेशा की तरह कड़ी मेहनत कर रहा था। मैं यह सुनिश्चित कर रहा हूं कि मैं अच्छी तैयारी करूं। इस दौरान मेरे पास सोचने समझने का बहुत समय था कि मुझे क्या चाहिए और मेरे लिए क्या अच्छा रहेगा। मुझे नहीं लगता कि यह मेरी वापसी होगी या मैं इस पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं। अभी मैं सिर्फ एक सकारात्मक मानसिकता के साथ रहना चाहता हूं और मैं ज्यादा आगे का नहीं सोच रहा हूं। मैं सिर्फ उन चीजों पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं जो मेरे नियंत्रण में हैं, जो मेरे शरीर के अनुकूल है और जिससे मैं टीम की सफलता में योगदान दे सकूं।

बीसीसीआई के केंद्रीय अनुबंधों में हार्दिक ग्रेड ए से ग्रेड सी में खिसक गए है। उन्होंनें हाल ही में बेंगलुरु में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में अपनी फिटनेस का आकलन किया और गेंदबाजी में हाथ आजमाने के साथ आराम से 'यो-यो' टेस्ट भी पास किया। उन्होंने कहा कि मैं इस आईपीएल का इंतजार कर रहा हूं क्योंकि मैं काफी लंबे समय से खेल से दूर हूं। मेरे लिए यह बहुत रोमांचक है, मुझे यह देखने को मिलेगा कि तीन महीने की कड़ी मेहनत के बाद मैं वास्तव में कहां हूं। 

हार्दिक ने कहा कि मैंने सीखा है कि परिणाम मायने नहीं रखता क्योंकि सिर्फ कड़ी मेहनत आपको सफलता की गारंटी नहीं देती है लेकिन सही प्रक्रिया को अपनाकर आप सफलता हासिल कर सकते है। गुजरात टाइटंस 28 मार्च को अपने आईपीएल अभियान के पहले मैच में लोकेश राहुल के नेतृत्व वाली दूसरी नयी टीम लखनऊ सुपर जायंट्स से भिड़ेगी।  

.
.
.
.
.