Sports

जालन्धर : 10 साल मुंबई इंडियंस के खेल रहे भारतीय ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह चाहे ही इस बार चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से आईपीएल में खेल रहे हैं लेकिन हरभजन का दिल अभी भी पंजाब के लिए खेलने के लिए धड़क रहा है। बीते दिनों एक इंटरव्यू में हरभजन ने इस बात का माना भी था कि वह खुद चाहते थे कि इस बार पंजाब की टीम की ओर से खेलें।

आईपीएल ऑक्शन आई। वह उपलब्ध थे लेकिन बावजूद इसके किंग्स प्रबंधन ने उनकी बोली नहीं लगाई। अगर किंग्स प्रबंधन बोली लगाता तो मुझे भी मदर लैंड से खेलने का मौका मिलता। हरभजन ने इंटरव्यू दौरान पंजाब किंग्स इलैवन की ओनर प्रिटी जिंटा से भी नाराजगी जताई थी। हरभजन का कहना था कि हालांकि प्रोफेशनल प्लेयर्स होने के नाते हमारी जिम्मेदारी है कि हम ऐसी बातों पर ध्यान न दें। लेकिन कभी-कभी कोई बात दिल में रहती  है। मैं पंजाब की ओर से खेलना चाहता था लेकिन चुना नहीं गया। इसका मुझे मलाल है।

इसी क्रम में हरभजन मोहाली में जब पंजाब के खिलाफ ही मैच खेलने आए तो भावुक हो गए। एंकर हर्ष भोगले के साथ हुई बातचीत दौरान हालांकि हरभजन ने खुद को भावुक दिखने नहीं दिया लेकिन बातों ही बातों में उन्होंने बता दिया कि वह पंजाब की ओर से खेलने को कितना मिस कर रहे हैं।

10 साल मुंबई में रहने के बाद नई टीम चेन्नई के साथ सामंजस्य बिठाने में कितना समय लगा, सवाल पर हरभजन ने कहा कि हां, मुझे संभलने के लिए थोड़ा समय जरूर लगा। मेरा पहला मुकाबला ही उस टीम (मुंबई) के खिलाफ था जिसके लिए मैं दस साल खेला था। इस दौरान मेरा ड्रैसिम रूम अलग था, वर्दी अलग थी, माहौल भी अलग था। लेकिन अंत में महसूस होता है कि हम सिर्फ एक क्रिकेटर हैं। ऐसे में भावनाओं को पीछे छोड़कर आपको सिर्फ और सिर्फ अपनी टीम के लिए परफॉर्म करना होता है, ऐसा मैंने किया भी।

धोनी के साथ कैसे ट्यूनिंग रही, सवाल पर हरभजन बोले- माही के साथ इंटरनैशनल क्रिकेट खेली है। चेन्नई में और भी कई ऐसे प्लेयर्स हैं, जिनके साथ मैं खेला हूं। एंकर हर्ष भोगले द्वारा यह पूछे जाने पर कि आप क्या पहले की तरह बॉलिंग कर पा रहे हैं, हरभजन ने कहा कि मैं खुश हूं कि बॉल पहले ही की तरह मेरे हाथ से निकल रही है। हालांकि अभी आईपीएल में विकेट स्पिनरों की मददगार नजर नहीं आ रही लेकिन उम्मीद है कि जैसे-जैसे टूर्नामैंट आगे बढ़ता जाएगा कि विकेट स्पिनरों के लिए अच्छा होता जाएगा। 

.
.
.
.
.