Sports

 

एजबस्टन : इंग्लैंड के खिलाफ आईसीसी विश्वकप के सेमीफाइनल मुकाबले से पहले ऑस्ट्रेलिया के कोच जस्टिन लेंगर ने कहा है कि माकर्स स्टोयनिस इस मुकाबले के लिए फिट हैं। इसके साथ ही उन्होंने चोटिल उस्मान ख्वाजा की जगह पीटर हैंड्सकोंब को अंतिम एकादश में शामिल करने के संकेत दिए हैं। स्टोयनिस दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ग्रुप चरण के अंतिम मुकाबले में चोटिल हो गए थे। लेकिन उन्होंने मंगलवार को अभ्यास सत्र के दौरान गेंदबाजी की थी।

लेंगर ने कहा, ‘उनकी चोट में सुधार हुआ है और उन्होंने अभ्यास सत्र में काफी मेहनत की है। स्टोयनिस ने नेट्स में अच्छी गेंदबाजी की और वह इंग्लैंड के खिलाफ मुकाबले के लिए पूरी तरह से फिट हैं।' हैंड्सकोंब को शॉन मार्श के चोटिल होने के बाद उनकी जगह टीम में शामिल किया गया था जबकि मैथ्यू वेड और मिशेल मार्श को ख्वाजा और स्टोयनिस के कवर के तौर पर बुलाया गया था। हालांकि ख्वाजा की चोट गंभीर थी और उन्हें विश्वकप से बाहर होना पड़ा। लेकिन टीम के कोच लेंगर के अनुसार सिफर् हैंड्सकोंब को ही अंतिम एकादश में स्थान मिल सकता है।

ऑस्ट्रेलियाई कोच ने कहा, ‘सच कहूं तो हैंड्सकोंब इंग्लैंड के खिलाफ 100 फीसदी खेलेंगे। वह इस मुकाबले के लिए योग्य व्यक्ति हैं। हालांकि वह इस टूर्नामेंट में शुरु से टीम में शामिल नहीं थे लेकिन वह अच्छे फॉर्म में हैं और उन्होंने ऑस्ट्रेलिया ए के खिलाफ काफी अच्छा प्रदर्शन किया थ। हैंड्सकोंब मध्यक्रम के काफी अच्छे बल्लेबाज हैं और वह स्पिन गेंदबाज के खिलाफ बेहतर तरीके से खेलते हैं, इसलिए इस मुकाबले में उनका खेलना तय है।'

टीम के खिलाड़ियों के विश्राम करने पर उन्होंने कहा, ‘टीम के खिलाड़ी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ मैदान में टहल सकते हैं, इसमें कोई बुराई नहीं है। टीम ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ बेहद कड़ा मुकाबला खेला था और उन्हें थोड़ा आराम मिलना चाहिए। खिलाड़ियों को पता है कि उन्हें किस टीम के खिलाफ खेलना है। इंग्लैंड बेहद मजबूत टीम है और हमें उनके खिलाफ अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होेगा।' लेंगर ने कहा, ‘अगर आप एक वर्ष पहली की बात करें तो ऑस्ट्रेलियाई टीम में सबकुछ ठीक नहीं था और यह सच है।

इसका असर ना सिर्फ क्रिकेट पर पड़ा बल्कि हमारे देश पर भी इसका गहरा असर हुआ था। हमें मेहनत करनी होगी और अपने प्रदर्शन पर ध्यान केंद्रित करना होगा।' इंग्लैंड की टीम के लिए उन्होंने कहा, ‘इंग्लैंड की टीम के खिलाड़ी पिछले चार वर्षों से साथ खेल रहे हैं। टीम में सभी खिलाड़ियों को एक दूसरे को जानना बेहद जरुरी होता है। इंग्लैंड की टीम बेहतरीन फॉर्म में है और टीम के खिलाड़ी आत्मविश्वास से भरे हैं क्योंकि वह पिछले चार वर्षों से साथ में खेल रहे हैं और एक दूसरे को बखूबी जानते हैं।'

.
.
.
.
.