Sports

पेरिस: ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधू, पांचवीं वरीयता प्राप्त किदाम्बी श्रीकांत और डेनमार्क ओपन की उपविजेता सायना नेहवाल फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर हो गए। ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप की रजत विजेता सिंधू को सातवीं सीड चीन की ही बिंगजियाओ ने 40 मिनट में लगातार गेमों में 21-13 21-16 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बना ली।
PunjabKesari
विश्व रैंकिंग में लगभग एक साल बाद नंबर एक बनी सिंधू पिछले सप्ताह डेनमार्क ओपन के पहले राउंड में बाहर हो गई थीं और फ्रेंच ओपन में उनकी चुनौती क्वार्टरफाइनल में टूट गई। इस हार के साथ सिंधू का चीनी खिलाड़ी के खिलाफ रिकॉर्ड 5-7 हो गया है।
PunjabKesari
विश्व में छठे नंबर के खिलाड़ी श्रीकांत का क्वार्टरफाइनल में मुकाबला विश्व के नंबर एक खिलाड़ी और टॉप सीड जापान के केंतो मोमोता से हो गया और जापानी जिग्गज ने भारतीय खिलाड़ी को 52 मिनट में 21-16 21-19 से हराकर अंतिम चार में स्थान बना लिया। इस हार के साथ श्रीकांत का मोमोता के खिलाफ 3-10 का रिकॉर्ड हो गया है। मोमोता ने श्रीकांत को पिछले सप्ताह डेनमार्क ओपन के सेमीफाइनल में हराया था। मोमोता ने श्रीकांत से पिछले सात मुकाबले जीते हैं। श्रीकांत ने आखिरी बार मोमोता को मार्च 2015 में इंडिया ओपन में हराया था।
PunjabKesari
डेनमार्क ओपन में उपविजेता रहीं सायना एक बार फिर ताइपे की तेई जू यिंग से पार नहीं पा सकीं। पिछले सप्ताह डेनमार्क ओपन के फाइनल में यिंग से हारने वाली सायना का क्वार्टरफाइनल में विश्व की नंबर एक खिलाड़ी ताइपे की तेइ जू यिंग  से मुकाबला हुआ और सायना को 36 मिनट में हार का सामना करना पड़ा। जू यिंग  ने नौंवें नंबर की भारतीय खिलाड़ी को लगातार गेमों में 22-20 21-11 से हरा दिया। सायना ने पहले गेम में तो संघर्ष किया लेकिन दूसरे गेम में उन्होंने समर्पण कर दिया। सायना का इस हार के बाद यिंग के खिलाफ 5-14 का करियर रिकॉर्ड हो गया है। सायना ने नवम्बर 2014 से अब तक यिंग से अपने पिछले 12 मुकाबले लगातार गंवाए हैं। 
PunjabKesari
इस बीच सात्विकसैराज रेंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी ने मनु अत्री और बी सुमित रेड्डी को 31 मिनट में 21-17 21-11 से हराकर पुरुष युगल के सेमीफाइनल में जगह बना कर भारत की उम्मीदों को कायम रखा है। भारतीय जोड़ी का सेमीफाइनल में सामना शीर्ष वरीयता प्राप्त इंडोनेशिया की जोड़ी मार्कस गिडोन और केविन सुकमुलजो से होगा। 

.
.
.
.
.