Sports

जालन्धर : पुलवामा हादसे के बाद जहां भारतीय क्रिकेट फैंस आगामी विश्व कप में पाकिस्तान से मैच का बायकाट करने की मांग कर रहे हैं। वहीं, भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान गुरबक्श सिंह का मानना है कि भारतीय हॉकी टीम को पाकिस्तान के साथ खेलना चाहिए। पूर्व कप्तान ने कहा- जून में हॉकी सीरीज के फाइनल्स हैं। यह टोक्यो ओलिम्पिक का  क्वालीफाइंग टूर्नामेंट हैं। पाकिस्तान एक मजबूत टीम है। ऐसे में भारतीय टीम पाकिस्तान से खेलकर अपने खेल में कई सुधार कर सकती है। टीम इंडिया में दम है कि वह पाकिस्तान को हरा सके। इससे भारतीय टीम के सदस्यों में नए आत्मविश्वास का संचार भी होगा। 

पूर्व कप्तान ने इस दौरान पुलवामा हमले के बाद नई दिल्ली निशानेबाजी विश्व कप में पाकिस्तान के दो निशानेबाजों को वीजा नहीं देने के मामले को भी शर्मनाक बताया। उन्होंने कहा कि उन निशानेबाजों को रोकना नहीं चाहिए था। हम द्विपक्षीय सीरीज में नहीं खेल रहे। भारतीय टीम को 1964 ओलंपिक और 1966 में एशियाई खेलों में गोल्ड दिलाने वाले गुरबक्श सिंह ने कहा कि 1965 में जब पाकिस्तान के साथ युद्ध हुआ था तब जालंधर में हमारा शिविर था। 1964 में हमने उन्हें हराया। 1965 के युद्ध के बाद, 1966 में एशियाई खेलों में भी हमने उन्हें मात दी थी।

.
.
.
.
.