Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : गुरुवार को हेमिल्टन में खेले गए चौथे वनडे मैच में न्यूजीलैंड ने भारत को 14.4 ओवर में हराकर बड़ी जीत दर्ज की है। इस मैच में न्यूजीलैंड ने 212 गेंदें बाकी रहते हुए 93 रनों के लक्ष्य को पूरा कर मैच अपने नाम किया जोकि वनडे में भारत की अब तक की सबसे शर्मनाक हार रही। इससे पहले अगस्त 2010 में दांबुला में भारत को श्रीलंका ने 209 गेंदें शेष रहते हराया था। लेकिन यहां पर बड़ा सवाल यह बनता है कि आखिर इस हार का कारण क्या रहा। 

PunjabKesari

टॉस हारना पड़ा भारी :- यह भी भारत की हार का एक कारण है। न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमस ने टॉस जीता और पहले बाॅलिंग करने का फैसला लिया। न्यूजीलैंड को गेंदबाजों के अनुकूल पिच पर टॉस जीतने का फायदा मिला। उन्होंने भारत पर शुरू से ही दबाव बनाए रखा जो अंत तक जारी रहा और भारतीय टीम 100 रन भी नहीं बना पाई। 

PunjabKesari

विराट कोहली की गैरमौजूदगी :- कोहली का ना खेलना भी भारतीय टीम की हार का एक बड़ा कारण है। रोहित बोल्ट को उन्हीं की गेंद पर कैच दे बैठे तो इस मैच में धवन भी फैल हो गए जिससे कोहली के टीम में ना होने से मिडिल ऑर्डर भी बिखर गया।  

PunjabKesari

बोल्ट की जबरदस्त गेंदबाजी :- ट्रेंट बोल्ट ने लगातार 10 ओवर बाॅलिंग की। इस दौरान बोल्ट ने महज 21 रन दिए जबकि भारतीय टीम के 5 विकेट लेने में कामयाब रहे। इसके साथ ही जो कमी रह गई थी उसे ग्रेंडहोम ने पूरा कर दिया और अपनी टीम के लिए 3 विकेट लिए। ग्रैंडहोम ने इस दौरान महज 26 रन ही दिए। 

PunjabKesari

धोनी की कमी भी टीम को खली :- मांसपेशियों में खिंचाव के कारण महेंद्र सिंह धोनी मैच से बाहर हैं जिस कारण उनके अनुभव की कमी भी टीम में देखी गई। भारतीय गेंदबाज लंबी पारी खेलने के इच्छुक नहीं दिखे और लगातार बीट होते रहे। ट्रेंट बोल्ट ने अकेले ही इतना दबाव बना दिया की उससे उबरना टीम के लिए नामुमकिन था। हालांकि पंड्या के आने पर थोड़ी उम्मीद जगी लेकिन वह भी जल्दी ही आउट हो गए। इसके अलावा विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक भी कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए। 

PunjabKesari

कमजोर पेस अटैक :- टीम इंडिया जब बॉलिंग करने उतरी तो भुवनेश्वर के अलावा कोई कुछ खास करता नहीं दिखा। पिच में स्पीड और स्विंग थी लेकिन मोहम्मद शमी का टीम में ना होना नुकसान करता दिखा।

.
.
.
.
.