Sports

सारांस्कः रूस में चल रहे फीफा विश्वकप के महाकुंभ में मंगलवार को पहला मुकाबला कोलंबिया और जापान के बीच खेला गया। विश्व रैंकिंग में 61वें नंबर की टीम जापान ने एशियाई झंडा बुलंद रखते हुए 16वीं रैंकिंग के और स्टार खिलाडिय़ों से सुसज्जित कोलंबिया को मंगलवार को मोरडोविया एरेना में ग्रुप H में 2-1 से हराकर तहलका मचा दिया और पहली बार फीफा विश्व कप फुटबॉल टूर्नामेंट में किसी दक्षिण अमेरिकी टीम पर जीत दर्ज करने का इतिहास रच दिया।
PunjabKesari
जापान इस तरह पहली एशियाई टीम बन गयी है जिसने किसी दक्षिण अमेरिकी टीम को हराया है। जापान ने इसके साथ ही कोलंबिया से 2014 विश्वकप में ग्रुप चरण में 1-4 से मिली हार का बदला भी चुका लिया।
PunjabKesari
वर्ष 2014 के गोल्डन बूट विजेता जेम्स रोड्रिग्का और शीर्ष स्कोरर राडामेल फाल्काओ जैसे खिलाडिय़ों से सुसज्जित कोलंबियाई टीम को इस हार से गहरा झटका लगा। जापानी टीम ने इस जीत के बाद पूरे स्टेडियम का चक्कर लगाकर दर्शकों का धन्यवाद किया।
PunjabKesari
कोलंबिया तीसरे मिनट में अपने एक खिलाड़ी को बाहर भेजे जाने के बाद से शेष समय में 10 खिलाडिय़ों के साथ खेली जिसका परिणाम उसे हार के रूप में भुगतना पड़ा। कोलंबिया के मिडफील्डर कार्लोस सांचेज को तीसरे मिनट में जानबूझकर हैंडबॉल करने के कारण रेड कार्ड दिखाया गया और उन्हें मैदान से बाहर भेज दिया गया। यह विश्व कप इतिहास का दूसरा सबसे तेज रेड कार्ड था।
PunjabKesari
जापान को इस पर पेनल्टी मिली। शिंजी कगावा ने पेनल्टी पर गोल करने में कोई गलती नहीं की और जापान को एक गोल से आगे कर दिया। कोलंबिया ने 39वें मिनट में बराबरी हासिल की। जुआन किंवटेरो ने नीची फ्री किक से कोलंबिया को बराबरी दिलाई।
PunjabKesari
बता दें कि सोमवार को जापान के एक चिड़ियाघर में पालतू तोते ने भविष्यवाणी की थी कि जापान अपना उद्घाटन मैच नहीं जीत पाएगा। लेकिन जापान ने तोते की भविष्यवाणी को गलत साबित किया और विश्वकप में जीत के साथ आगाज किया।
PunjabKesari
जापान के मुख्य कोच तथा पूर्व मिडफील्डर अकीरा निशिनो ने अप्रैल में ही टीम का पदभार संभाला है और उन्होंने विश्वकप के लिये अनुभवी टीम को उतारा है जिसमें तीन खिलाड़ी यूतो नागातोमो, शिंजी ओकाजाकी और माकोतो हसीबी ने 100 से अधिक अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं।
PunjabKesari 

.
.
.
.
.