Sports

नई दिल्लीः भारतीय महिला क्रिकेट टीम में जब से रमेश पोवार आैर मिताली राज को लेकर विवाद चल रहा तब से नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। अब बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति (सीओए)की सदस्य डायना एडुल्जी ने मंगलवार को यह कहकर सबको हैरान कर दिया कि विराट कोहली के कहने पर अनिल कुंबले को कोच के पद से हटाया गया था जबकि रवि शास्त्री को कोहली की सिफारिश के जरिए टीम में लाया गया।

एडुल्जी ने कहा कि अगर कोच चयन में पुरूष टीम के कप्तान विराट कोहली की पसंद का ख्याल रखा जा सकता है तो सीओए प्रमुख विनोद राय को महिला टी20 टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर की पसंद का भी ख्याल रखना चाहिए जो रमेश पोवार को टीम का कोच बरकरार रखना चाहती हैं। विवादों के बाद पोवार के टीम से हटने के बाद महिला टीम फिलहाल बिना कोच के है। राय को लिखे पत्र में एडुल्जी ने सीओए प्रमुख और बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी पर आरोप लगाया कि पिछले साल जुलाई में नियमों को तोड़ते हुए रवि शास्त्री को पुरूष टीम का कोच बनाया गया।
Diana Edulji image

कोहली लगातार जाैहरी को मैसेज भेजते थे

एडुल्जी ने लिखा, ‘‘ मुझे इस बात में कुछ भी गलत नहीं लगता कि महिला क्रिकेटर कोच के संबंध में ई-मेल लिख रही हैं। वे सच्चाई के साथ अपने विचारों को साझा कर रहीं हैं जबकि इसके विपरीत विराट सीईओ (जौहरी) को लगातार मैसेज भेजते थे जिस पर आपने कार्रवाई भी की और कोच को बदला गया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ उस समय भी मैंने अपना विरोध जताया था क्योंकि उनके (शास्त्री के) लिए अंतिम तिथि को बढ़ाया गया था। उन्होंने समय पर आवेदन नहीं किया था। अनिल कुंबले खुद एक दिग्गज हैं और उन्हें खलनायक की तरह दिखाया गया। उन्होंने विनम्रता दिखाई और आगे बढ़ गये जिसके लिए मैं उनका सम्मान करती हूं। वहां भी नियमों को ताक पर रखा गया था और मैंने विरोध किया था।’’
kohli and shastri

विचारों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए

एडुल्जी ने कहा कि कोच के मुद्दे पर हरमनप्रीत कौर और उपकप्तान स्मृति मंधाना की मांग पर विचार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘ कप्तान और उपकप्तान ने अपने पसंद के कोच की मांग की है इसलिए हमें समिति (कोच चयन) पर स्थिति साफ होने तक न्यूजीलैंड दौरे के लिए उनकी मांग का सम्मान करना चाहिए। हम उसी कोच के साथ दौरे पर जा सकते हैं। टीम के दो वरिष्ठ खिलाडिय़ों के विचारों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिये।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसीए) चाहती थी कि कुंबले टीम के कोच बने रहे लेकिन विराट ने उनकी बात नहीं मानी। ऐसे में महिला टीम की दोनों खिलाडिय़ों के विचारों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।’’ शास्त्री ने भारतीय टीम के कोच के लिए समय पर आवेदन नहीं किया था लेकिन बीसीसीआई ने इस पूर्व भारतीय खिलाड़ी के लिए अंतिम तिथि बढ़ा दी थी और अंत में उम्मीदों के मुताबिक शास्त्री भारतीय टीम के कोच बने।

नए कोच की घोषणा न्यूजीलैंड दौरे से पहले होगी

बीसीसीआई ने मंगलवार को महिला टीम में पोवार का विकल्प तलाशने के लिए तदर्थ समिति का गठन किया लेकिन एडुल्जी ने कहा कि राय ने यह फैसला उनसे परामर्श किये बिना ही ले लिया। एडुल्जी के मुताबिक सचिन तेंदुल्कर, वीवीएस लक्ष्मण और सौरव गांगुली की सीएसी को महिला टीम के कोच की खोज के लिए ज्यादा समय दिया जाना चाहिये था। बीसीसीआई ने कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी की तदर्थ समिति का गठन किया है जो महिला टीम के लिए नया कोच चुनेंगे। उम्मीद है कि बीसीसीआई नए कोच के नाम की घोषणा न्यूजीलैंड दौरे के शुरू होने से पहले करेगी। यह दौरा 24 जनवरी से शुरू होगा जिसमें तीन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय और इतने ही टी20 अंतरराष्ट्रीय खेले जाने हैं।
harmanpreet and powar image

राय पर एकतरफा फैसले लेने का आरोप लगाया

कोच के आवेदन की अंतिम तिथि 14 दिसंबर है और इसके लिए अब तक मनोज प्रभाकर, हर्शल गिब्स और दिमित्रि मास्करेनहास जैसे पूर्व खिलाडिय़ों ने आवेदन किया है। भारतीय महिला टीम तब से विवादों में आयी जब टी20 विश्व कप के सेमीफाइनल मैच में मिताली राज को टीम में जगह नहीं दी गयी और भारत यह मैच हार गया। इस पूर्व भारतीय कप्तान ने राय पर एकतरफा फैसले लेने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘‘ मेरी गैरमौजूदगी में आप दो महिला क्रिकेटरों (हरमनप्रीत और मिताली) से मिले और जब मैंने इस बारे में पूछा तो आपने कहा कि वे आप से मिलना चाहतीं थीं। एक बार फिर आप यह समझने में नाकाम रहे कि सीओए के पद पर रहते हुए बीसीसीआई में मेरी बातों का भी आपके बराबर महत्व है।’’ एडुल्जी ने ईमेल में सीईओ सहित बीसीसीआई के अधिकारियों से उनकी सहमति के बिना राय के निर्देशों पर काम नहीं करने को कहा।



 

.
.
.
.
.