Sports

लंदनः इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड ( ईसीबी ) ने खेल के प्रत्येक स्तर पर दक्षिण एशिया समुदाय के लोगों को जोडऩे के लिए आज एक कार्य योजना की शुरुआत की। ईसीबी को उम्मीद है कि इससे अधिक खिलाड़ी, प्रशंसक और स्वयंसेवक तैयार होंगे। प्रिंस चाल्र्स ब्रिटिश एशियन ट्रस्ट ( बीएटी ) रणनीतिक साझेदार के रूप में इस पहल का समर्थन कर रहा है। यह पहल ईसीबी के दक्षिण एशिया परामर्श समूह की सिफारिशों पर आधारित है।            

ईसीबी के सीईओ टाम हैरिसन ने कहा , ‘‘ हमने लंबे समय से ब्रिटेन में रह रहे दक्षिण एशिया समुदाय के बीच खेल को लेकर जुनून को स्वीकार किया है लेकिन कभी पूरी तरह से समझ नहीं पाए कि किस तरह दक्षिण एशिया समुदाय को इससे जोड़ा जाए। यह रिपोर्ट हमें इसे बदलने का खाका देगी। ’’ उन्होंने कहा , ‘‘ अब हमें कहीं गहरी समझ है कि कैसे क्रिकेट बहुधार्मिक , बहुभाषीय और बहुसांस्कृतिक समुदाय में भूमिका निभा सकता है। ’’           

ईसीबी के परामर्श समूह में पूर्व क्रिकेटर वसीम खान और इशा गुहा शामिल हैं और इन्होंने इस कार्य योजना को तैयार करने के लिए खेल के प्रत्येक स्तर पर दक्षिण एशिया समुदाय के सामने आने वाली चुनौतियों पर गौर किया है। इस परियोजना में नये शहरी क्रिकेट केंद्र और टर्फ तैयार करना, प्रतिभा खोज के लिए सामुदायिक प्रतिभा चैंपियन्स लांच करना, प्राथमिक स्कूली स्तर पर जुडऩा, अधिक एशियाई कोचों का समर्थन और उभरते हुए ब्रिटिश एशिया क्रिकेटरों का अनुदान देना शामिल है।